"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

लोड हो रहा है. . .

समर्थक

शनिवार, 29 अगस्त 2015

दोहे "जरी-सूत या जूट के, धागे हैं अनमोल" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


परम्परा मत समझना, राखी का त्यौहार।
रक्षाबन्धन में निहित, होता पावन प्यार।।
--
राखी लेकर आ गयी, बहना बाबुल-द्वार।
भाई देते खुशी से, बहनों को उपहार।।
--
रक्षाबन्धन पर्व का, दिन है सबसे खास।
जिनके बहनें हैं नहीं, वो हैं आज उदास।।
--
ममता की इस डोर में, उमड़ा रहा है प्यार।
भावनाओं से बँधें हैं, सम्बन्धों के तार।।
--
अपनी बहनों से कभी, मत होना नाराज।
भइया रक्षा-सूत्र की, रखना हरदम लाज।।
--
धागे कच्चे हों भले, ममता है मजबूत।
लेकिन भाई का हृदय , कर देते अभिभूत।।
--
जरी-सूत या जूट के, धागे हैं अनमोल।
गौरव के इतिहास से, सज्जित है भूगोल।।
--
राखी के दिन देश में, उमड़ा प्यार-अपार।
रिश्ते-नातों की चहक, देख रहा संसार।।
--
निश्छल पावन प्यार का, होता जहाँ निवेश।
न्यारा सारे जगत से, मेरा भारत देश।।

गीत "भाई के ही कन्धों पर, होता रक्षा का भार" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

हरियाला सावन ले आया, नेह भरा उपहार।
कितना पावन, कितना निश्छल राखी का त्यौहार।।

यही कामना करती मन में, गूँजे घर में शहनाई,
खुद चलकर बहना के द्वारे, आये उसका भाई,
कच्चे धागों में उमड़ा है भाई-बहन का प्यार।
कितना पावन, कितना निश्छल राखी का त्यौहार।।

तिलक लगाती और खिलाती, उसको स्वयं मिठाई,
आज किसी के भइया की, ना सूनी रहे कलाई,
भाई के ही कन्धों पर, होता रक्षा का भार।
कितना पावन, कितना निश्छल राखी का त्यौहार।।

पौध धान के जैसी बिटिया, बढ़ी कहीं पर-कहीं पली,
बाबुल के अँगने को तजकर, अन्जाने के संग चली,
रस्म-रिवाज़ों ने खोला है, नूतन घर का द्वार।
कितना पावन, कितना निश्छल राखी का त्यौहार।।

रखती दोनों घर की लज्जा, सदा निभाती नाता,
राखी-भइयादूज, बहन-बेटी की याद दिलाता,
भइया मुझको भूल न जाना, विनती बारम्बार।
कितना पावन, कितना निश्छल राखी का त्यौहार।।

शुक्रवार, 28 अगस्त 2015

"आया राखी का त्यौहार" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

आया राखी का त्यौहार!!
हरियाला सावन ले आयाये पावन उपहार।
अमर रहा हैअमर रहेगाराखी का त्यौहार।।
आया राखी का त्यौहार!!

जितनी ममता होती है, माता की मृदु लोरी में,
उससे भी ज्यादा ममता है, राखी की डोरी में,
भरा हुआ कच्चे धागों में, भाई-बहन का प्यार।
अमर रहा हैअमर रहेगाराखी का त्यौहार।।
आया राखी का त्यौहार!!

भाई को जा करके बाँधें, प्यारी-प्यारी राखी,
हर बहना की यह ही इच्छा राखी के दिन जागी,
उमड़ा है भगिनी के मन में श्रद्धा-प्रेम अपार!
अमर रहा हैअमर रहेगाराखी का त्यौहार।।
आया राखी का त्यौहार!!

खेल-कूदकर जिस अँगने में, बीता प्यारा बचपन,
कैसे याद भुलाएँ उसकी, जो मोहक था जीवन,
कभी रूठते और कभी करते थे, आपस में मनुहार।
अमर रहा हैअमर रहेगाराखी का त्यौहार।।
आया राखी का त्यौहार!!

गुज़रे पल की याद दिलाने, आई बहना तेरी,
रक्षा करना मेरे भइया, विपदाओं में मेरी,
दीर्घ आयु हो हर भाई की, ऐसा वर दे दो दातार।
अमर रहा हैअमर रहेगाराखी का त्यौहार।।
आया राखी का त्यौहार!!

आज किसी भी भाई की, ना सूनी रहे कलाई,
पहुँचा देना मेरी राखी, अरे डाकिए भाई,
बहुत दुआएँ दूँगी तुझको, तेरा मानूँगी उपकार!
अमर रहा है अमर रहेगा, राखी का त्यौहार!!
आया राखी का त्यौहार!!

गुरुवार, 27 अगस्त 2015

दोहे "रक्षाबन्धन" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

कितना अद्भुत है यहाँ, रिश्तों का संसार।
जीवन जीने के लिए, रिश्ते हैं आधार।१।
--
केवल भारत देश में, रिश्तों का सम्मान।
रक्षाबन्धन पर्व की, अलग अनोखी शान।२।
--
कच्चे धागों से बँधी, रक्षा की पतवार।
रोली-अक्षत-तिलक में, छिपा हुआ है प्यार।३।
--
भाई की लम्बी उमर, ईश्वर करो प्रदान।
बहनें भाई के लिए, माँग रहीं वरदान।४।
--
सदा बहन की मदद को, भइया हों तैयार।
रक्षा का यह सूत्र है, राखी का उपहार।५।
--
चाहे युग बदलें भले, बदल जाय संसार।
अमर रहेगा हमेशा, यह पावन त्यौहार।६।
--
राखी के ही तार में, छिपी हुई है प्रीत।
जब तक चन्दा-सूर हैं, अमर रहेगी रीत।७।
--
राखी के दिन किसी का, सूना रहे न हाथ।
प्रेम-प्रीत की रीत का, छूटे कभी न साथ।८।
--
रेशम-जरी-कपास  के, रंग-बिरंगे तार।
ले करके बहना चली, अब बाबुल के द्वार।९।

मंगलवार, 25 अगस्त 2015

ग़ज़लनुमा पेशकश "पढ़ना बहुत जरूरी है" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

पढ़ना बहुत जरूरी है
लिखना तो मजबूरी है

वो ही खरे उतरते हैं
जिनकी निष्ठा पूरी है

नया ज़माना आया है
सत्संगों से दूरी है

जब हम मेहनत करते हैं
तब मिलती मजदूरी है

जीवन एक हक़ीकत़ है
सपना तो सिंदूरी है

होना होगा वो ही तो
रब की जो मंजूरी है

रिश्तों की अमराई में
रस्मों की दस्तूरी है

मछली जल में रहती है
फिर भी प्यास अधूरी है

“रूप” भले ही ढल जाये
पर क़ायम मग़रूरी है

सोमवार, 24 अगस्त 2015

दोहे "सावन की महिमा" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

सावन आने पर धरा, करती है शृंगार।
हरा-भरा परिवेश है, सावन का उपहार।१।
--
चोटी-बिन्दी-मेंहदी, आपस में बतियाय।
हर्ष और अनुराग में, सुहागिनें बौराय।२।
--
तीजों के त्यौहार पर, कर सोलह सिंगार।
आज नारियाँ हर्ष से, गातीं मेघ-मल्हार।३।
--
आँगन में झूले पड़े, झूल रहीं हैं नार।
घेवर-फेनी से सजा, हलवाई बाजार।४।
--
नागपञ्चमी पर लगी, देवालय में भीड़।
कानन में सब खोजते, नागदेव के नीड़।५।
--
सोमवार के दिन सभी, मन्दिर जाते लोग।
शिव-शंकर को प्यार से, लगा रहे हैं भोग।६।
--
काँवड़ लेकर आ रहे, श्रद्धा से अनुरक्त।
हर-हर, बम-बम घोष को, करते सारे भक्त।७।
--
गंगा जी के घाट पर, लम्बी लगी कतार।
लोग नहाने जा रहे, हर-हर के हरद्वार।८।
--
आता सावन मास में, रक्षाबन्धन पर्व।
जब करती बहनें तिलक, भाई करता गर्व।९।
--
बहनें करतीं कामना, भाई हो खुशहाल।
भाई की लम्बी उमर, माँग रहीं हर साल।१०।

रविवार, 23 अगस्त 2015

दोहे "थमे हुए जल में सदा, बन जाते शैवाल" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


छाया को देता नहीं, कण्टक वृक्ष खजूर।
जो हैं कुटिल स्वभाव के, रहना उनसे दूर।१।
--
करते सदा परोक्ष में, इज्जत पर जो वार।
जब होते वो सामने, तब करते मनुहार।२।
--
ज्यादा मीठे बोल में, होती झूठी प्रीत।
ऐसे लोगों से सदा, करो किनारा मीत।३।
--
मिलते हैं संसार में, पग-पग पर आघात।
जाँच-परख कर कीजिए, साझा मन की बात।४।
--
छल-फरेब का जगत में, बिछा हुआ है जाल।
पानी वाले दूध में, आता खूब उबाल।५।
--
छोटी-छोटी बात पर, होना नहीं अधीर।
हरदम रहना चाहिए, धीर और गम्भीर।६।
--
चरैवेति सिद्धान्त का, रखना हरदम ख्याल।
जिनमें नहीं प्रवाह है, सड़ जाते वो ताल।७।
--
अभिमानी गिरि पर बहुत, आते हैं भूचाल।
थमे हुए जल में सदा, बन जाते शैवाल।८।
--
धन-दौलत को पाय कर, मत करना अभिमान।
घर आये मेहमान का, करना मन से मान।९।
--
कभी न करना कहीं भी, कोई लूट-खसोट
नीयत में लाना नहीं, अपनी कोई खोट।१०।
--
दग़ाबाज-मक्कार का, रहता खाली हाथ।
श्रम से अर्जित द्रव्य ही, सदा निभाता साथ।११।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails