"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

रविवार, 31 मई 2020

दोहे "तम्बाकू निषेध दिवस पर सन्देश" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
गघे नहीं खाते जिसेतम्बाकू वो चीज।
खान-पान की मनुज कोबिल्कुल नहीं तमीज।।
--
रोग कैंसर का लगेसमझ रहे हैं लोग।
फिर भी करते जा रहेतम्बाकू उपयोग।।
--
खैनी-गुटका-पान काहै हर जगह रिवाज।
गाँजाभाँग-शराब काचलन बढ़ गया आज।।
--
तम्बाकू को त्याग दोहोगा बदन निरोग।
जीवन में अपनाइएभोग छोड़कर योग।।
--
पूरब वालो छोड़ दोपश्चिम की सब रीत।
बँधा हुआ सुर-ताल सेपूरब का संगीत।।
--
खोलो पृष्ठ अतीत केआयुध के संधान।
सारी दुनिया को दियाभारत ने विज्ञान।।
--
जगतगुरू यह देश थादेता जग को ज्ञान।
आज नशे की नींद मेंसोया चादर तान।।
--

शनिवार, 30 मई 2020

दोहे "पत्रकारिता दिवस" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
पत्रकारिता दिवस पर, होता है अवसाद।
गुणा-भाग तो खूब है, मगर नहीं गुणवाद।।
--
पत्रकारिता में लगेजब से हैं मक्कार।
छँटे हुओं की नगर केतब से है जयकार।।
--
समाचार के नाम पर, ब्लैकमेल है आज।
विज्ञापन का चल पड़ा, अब तो अधिक रिवाज।।
--
पीड़ा के संगीत मेंदबे खुशी के बोल।
देश-वेश-परिवेश मेंकौन रहा विष घोल।।
--
बैरी को तो मिल गये, घर बैठे जासूस।
सच्ची खबरों के लिए, देनी पड़ती घूस।।
--
ख़बरें अब साहित्य कीहुई पत्र से लुप्त।
सामाजिकता हो रहीइसीलिए तो सुप्त।।
--
मिर्च-मसाला झोंक करछाप रहे अखबार।
हत्या और बलात् कीख़बरों की भरमार।।
--
पड़ी बेड़ियाँ पाँव मेंहाथों में जंजीर।
सच्चाई की हो गयीअब खोटी तकदीर।।
--

ग़ज़ल "इंसानियत का रूप" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
मदहोश निगाहें हैंखामोश तराना है
मासूम परिन्दों कोअब नीड़ बनाना है
--
सूखे हुए शजरों नेपायें हैं नये पत्ते
बुझती हुई शम्मा कोमहफिल में जलाना है
--
कुछ करके दिखाने काअरमान हैं दिलों में
उजड़ी हुई दुनिया कोअब फिर से बसाना है
--
हिंसा की चल रहीं हैंचारों तरफ हवाएँ
आतंक की आँधी कोअब दूर भगाना है
--
फिरकापरस्त होनामज़हब नहीं सिखाता 
बन्धन को काट करके, अब धर्म सिखाना है 
--
इस मादरे-वतन कोमक़्तल की जरूरत क्या
अब पाठ अहिंसा कामक़तब में पढ़ाना है
--
इंसान आजकल का, हैवान बन गया है
इंसानियत का हमकोअब रूप” दिखाना है
--

गुरुवार, 28 मई 2020

गीत "ख़ाक सड़कों की अभी तो छान लो" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


--
ख़ाक सड़कों की अभी तो छान लो।
धूप में घर को बनाना ठान लो।।
--
भावनाओं पर कड़ा पहरा लगा,
दुःख से आघात है गहरा लगा,
मीत इनको ज़िन्दग़ी का मान लो।
धूप में घर को बनाना ठान लो।।
--
काल का तो चक्र अब ऐसा चला,
आज कोरोना ने दुनिया को छला,
वेदना के रूप को पहचान लो।
धूप में घर को बनाना ठान लो।।
--
रास्तों में धूप है और धूल है,
समय श्रमिकों के लिए प्रतिकूल है,
आदमीयत को जरा सा जान लो।
धूप में घर को बनाना ठान लो।।
--
'रूप' तो इक रोज़ ढल ही जायेगा, 
आँच में जीवन पिघल ही जायेगा, 
दानवों से सभ्यता का ज्ञान लो। 
धूप में घर को बनाना ठान लो।।
--

दोहे "अमलतास तुम धन्य" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
होती जेठ-अषाढ़ में, जब गरमी भरपूर।
अमलतास के पेड़ पर, तब आ जाता नूर।।
--
रवि बरसाता है अनल, बढ़ा धरा का ताप।
सारा जग है झेलता, कुदरत का सन्ताप।।
--
लू के झाँपड़ झेल कर, खा सूरज की धूप।
अमलतास का हो गया, सोने जैसा रूप।।
--
झूमर जैसे लग रहे, अमलतास के फूल।
छाया देता पथिक को, मौसम के अनुकूल।।
--
तन-मन लोगों का हुआ, गरमी से विद्रूप।
किसे रिझाने के लिए, धरा आपने रूप।।
--
कंचन जैसा कन्त ने, रूप लिया है धार।
आँखों को अच्छा लगे, नैसर्गिक सिंगार।।
--
अमलतास तुम धन्य हो, धन्य तुम्हारा नाम।
शीतलता छाया बाँटते, जग को आठों याम।।
--

बुधवार, 27 मई 2020

दोहे "सच्चाई का अंश" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
जब भी लड़ने के लिएलहरें हों तैयार।
कस कर तब मैं थामताहाथों में पतवार।।
--
बैरी के हर ख्वाब कोकर दूँ चकनाचूर।
जब अपने हो सामनेहो जाता मजबूर।।
--
जब भी लड़ने के लिएहोता हूँ तैयार।
धोखा दे जाते तभीमेरे सब हथियार।।
--
साधन हो पैसा भलेमगर नहीं है साध्य।
हिरती-फिरती छाँव कोमत समझो आराध्य।।
--
राज़-राज़ जब तक रहेतब तक ही है राज़।
बिना छन्द के साज भीहो जाता नाराज।।
--
वाणी में जिनकी नहींसच्चाई का अंश।
आस्तीन में बैठ करदेते हैं वो दंश।।
--
बैठे गंगा घाट परसन्त और शैतान।
देना सदा सुपात्र कोधन में से कुछ दान।।
--
बन्द कभी मत कीजिएआशाओं के द्वार।
मजबूती से थामनालहरों में पतवार।।
--
लोकतान्त्रिक देश मेंकहाँ रहा जनतन्त्र।
गलियारों में गूँजतेजाति-धर्म के मन्त्र।।।
--
हँसकर जीवन को जियोरहना नहीं उदास।
नीरसता को त्याग करकरो हास-परिहास।।
--
आड़ी-तिरछी हाथ मेंहोतीं बहुत लकीर।
कोई है राजा यहाँकोई बना फकीर।।
--
सीधे-सादे हों भलेलेकिन चतुर सुजान।
लोग उत्तराखण्ड केरखते हैं ईमान।।
--
सुलगे जब-जब हृदय मेंमेरे कुछ अंगार।
तब तुकबन्दी में करूँभावों को साकार।।
--

मंगलवार, 26 मई 2020

गीत "गरमी का अब मौसम आया" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


--
तालाबन्दी में जन-जीवन,
कोरोना ने बहुत डराया।
चहल-पहल सहमी-सहमी है,
गरमी का अब मौसम आया।।
--
मलयानिल की बाट जोहते,
नव पल्लव भी मुरझाये हैं।
पीपल, गूलर भी आहत हैं,
युकलिप्टस भी बौराये हैं।।
ओढ़ धूप की धवल चदरिया,
सूरज ने अब रंग दिखाया।
चहल-पहल सहमी-सहमी है,
गरमी का अब मौसम आया।।
--
जीव-जन्तु आहत हैं कितने,
चातक-दादुर हैं अकुलाये।
तन-मन को लू ने झुलसाया,
मानसून जाने कब आये।
खेतों में पड़ गई दरारें,
टिड्ढी दल नभ में मँडराया।
चहल-पहल सहमी-सहमी है,
गरमी का अब मौसम आया।।
--
झोंपड़ियाँ सहमी-सहमी हैं,
महलों में भी चैन नहीं है।
निष्ठुर हआ दिवाकर दिन में,
सुख की अब तो रैन नहीं है।
सूख गये हैं ताल-सरोवर,
हरियाली का हुआ सफाया।
चहल-पहल सहमी-सहमी है,
गरमी का अब मौसम आया।।
--
तपती गरम तवे सी धरती,
सूरज आज जवान हुआ है
हिमगिरि से हिम पिघल रहा है,
पागल सा दिनमान हुआ है।
एसी-कूलर फेल हो गये,
कोरोना ने जाल बिछाया।
चहल-पहल सहमी-सहमी है,
गरमी का अब मौसम आया।।
--

सोमवार, 25 मई 2020

दोहे "कहो मुबारक ईद" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
जब तक साँस शरीर में, तब तक है उम्मीद।
दुआ करो अल्लाह से, कहो मुबारक ईद।।
--
फोनकॉल-सन्देश से, पूछो हाल-मिजाज।
कोरोना के काल में, घर में पढ़ो नमाज।।
--
करना दुआ सलाम ही, गले न मिलना ईद।
मानव मानव ही रहे, रब की है ताकीद।।
--
सामाजिक दूरी बना, सीमित करो खरीद।
भाईचारे का सबक, सिखलाती है ईद।।
--
आदर हो हर पन्थ का, पढ़ो कुरान-मजीद।
खुशियाँ लेकर आ गयी, मौमिन के घर ईद।।
--
सच्चे मन से कीजिए, अपने सब अरकान।
घर-घर नेमत ईद की, लाते हैं रमजान।।
--
ईश्वर का पैगाम है, सबके लिए मुफीद।
लाते हैं उल्लास को, होली-क्रिसमस-ईद।।
--

रविवार, 24 मई 2020

बालकविता "पेड़ों पर पकती हैं बेल" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जो शिव-शंकर को भाती है 
बेल वही तो कहलाती है 
 
तापमान जब बढ़ता जाता 
पारा ऊपर चढ़ता जाता 

अनल भास्कर जब बरसाता 
लू से तन-मन जलता जाता 
 
तब पेड़ों पर पकती बेल 
गर्मी को कर देती फेल 

इस फल की है महिमा न्यारी 
गूदा इसका है गुणकारी  
पानी में कुछ देर भिगाओ 
घोटो-छानो और पी जाओ 
ये शर्बत सन्ताप हरेगा 
तन-मन में उल्लास भरेगा 
--

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails