"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 4 मई 2009

‘‘आज हो गयी 103 दिन में 200 पोस्ट पूरी’’ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’


‘‘महाप्रयाण’’


आज मानव की स्थिति है

रेगिस्तान में

फँसे गधे की भाँति,

जिसमें मृग-मरीचिका के समान

उसे दिखाई देती है

पानी की पाँति,

जल की खोज में

इधर-उधर भागता रहता है,

रात में भी

जागता रहता है,

पानी का

होता तो है आभास,

परन्तु

बुझा नही पाता

अपनी प्यास,

वह चलता जाता है,

और चलता जाता है,

भवसागर से

अधूरी प्यास लिए

दुनिया से चला जाता है,

वह एक सन्देश,दे जाता है,

दुःख उठाते रहो,

जब तक देह में प्राण है,

शायद, जीवन का,

यही ‘‘महाप्रयाण’’ है।।

32 टिप्‍पणियां:

  1. bilkul sahi kaha aapne........mahaprayan.........yahi hai.yeh sansar hai hi dukhalay....to yahan dukh ke siwa kuch nhi hai........agar sukh hai to w hamare andar hi hai jise hum khojna nhi chahte aur is dukhalay mein sukh ki khoj mein bhatakte rahte hain ......ik mrig marichika ki bhanti.

    जवाब देंहटाएं
  2. * १०३ दिन में दो सौवीं पोस्ट !
    * यह तो कमाल है.
    * बधाई.
    * आपकी सक्रियता मेरे जैसे आलसी को प्रेरणा दे सके यही कामना है.
    * अतुकांत कविता के मैदान में अपकी सफल प्रस्तुति देख मन खिला !
    * पुन बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  3. दो सौंवी पोस्‍ट के लिए बहुत बहुत बधाई एवं शभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  4. कविताम्य व्यक्तितत्व को मेरा शत शत वन्दन है,
    बोद्धिकता के प्रखर सुर्य का सादर अभिनन्दन है,
    कविताओ के प्रयोगो से उबारा है जन जिवन को,
    हे प्रभु! करते तुम्हारा पथदर्शनसुख का स्पन्दन है।
    ..........................................
    हार्दिक शुभकामनाए आपके ब्लोग पर २०० पोस्ट पुरी होने के उपलक्ष मे।
    ..........................................
    हे प्रभु यह तेरापन्थ
    मुम्बई टाईगर

    जवाब देंहटाएं
  5. इस दो सौवीं पोस्ट की बधाई. लगता है ये भी ये एक रिकार्ड है. लक्ष्य १२ महिने में १००१ का अव्श्य पूरा कर पायेंगे आप. अग्रिम शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  6. 200th post ke liye Congrats...
    Bahut sahi darshaaya hai aapne mahaprayaan ko...

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत बहुत बधाई आपकी सफलता पर............आप ऐसे ही लिखते रहें हम ऐसे ही पढ़ते रहें...........

    जवाब देंहटाएं
  8. शास्त्री जी,
    लगता है कि आपने कई सारी डायरियां लिख रखी हैं. अब सभी को ही ऑनलाइन उपलब्ध करा रहे हो.
    और आपसे एक निवेदन ये है कि क्या आप मेरे इस नं पर मिस कॉल कर सकते हैं? मतलब कि क्या आप मुझे अपना फोन नं दे सकते हैं? मेरा नं है: 09999399632

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत बहुत बधाई शास्त्री जी....आपकी लेखनी सतत यूँ ही चलती रहे और हमारा पथ आलोकित करती रहे...सार्थक रचनाओं की दूसरी सेंचुरी वो भी इतने अल्प समय में...कमाल है...आप तो ब्लॉग जगत के वीरेंद्र सहवाग हैं...:)
    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  10. दूसरे शतक की बहुत बधाई..ऐसे ही कई शातको का इन्तजार है.

    जवाब देंहटाएं
  11. bahut sundar kavita he aapki ,my heartly congrates to u for ur double sanctury.its realy great.

    जवाब देंहटाएं
  12. डबल सेंचुरी की बधाई तिकडी जल्दी पूरा करे.

    जवाब देंहटाएं
  13. SHASTRI JI.
    200 VIN POST KI BADHAAYEE.
    KAVITA BAHUT SUNDER HAI.

    जवाब देंहटाएं
  14. सर जी।
    सुन्दर अकविता के साथ,
    200 वीं पोस्ट के लिए,
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  15. 200 वी प्रविष्टी के लिए बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  16. मयंक भइया।
    200 वीं पोस्ट के लिए,
    बधाई स्वीकार करें।

    जवाब देंहटाएं
  17. आपके ब्लॉग पर २०० पोस्ट पूरी होने के उपलक्ष में
    हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
  18. कमाल है.
    १०३ दिन में दो सौ पोस्ट.
    बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  19. वाह...वाह...।
    मात्र १०३ दिन में दो सौ पोस्ट !
    बधाई....बधाई....बधाई...।

    जवाब देंहटाएं
  20. शास्त्री जी।
    डबल सेंचुरी के लिए,
    मुबारकवाद।

    जवाब देंहटाएं
  21. It's a good poem "MAHAPRAYAN".
    Very Very congratulation to double century to your blog.

    जवाब देंहटाएं
  22. 103 दिन में 200
    और 200 दिन में
    कितनी ...

    इसमें जोड़ लें अगर
    कुछ रातें, वे रातें
    जिनमें नींद नहीं आती ...

    तो पोस्‍टें होंगी
    200 दिनरात में
    1000 यह है पक्‍की बात ...

    आजमा सकते हैं
    कविताएं चाहें जितनी
    पढ़ा सकते हैं
    महाप्रयाण जीवन का
    तो हो सकता है लेकिन
    ब्‍लॉग पोस्‍टों का कभी नहीं
    आप चाहें तो शेड्यूल भी
    कर सकते हैं

    शेड्यूल का सारा गागर
    सागर बनाकर भर सकते हैं
    उस डगर पर चल सकते हैं
    जिस पर कम चलते हैं
    ...

    टिप्‍पणी हो रही है लंबी
    अब हम चलते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  23. आदरणीय शास्त्री जी,

    यह बहुत हर्ष का बात है कि
    निरंतरता बनाए रखते हुए
    आपने अल्प समय में
    अथक परिश्रम करके "उच्चारण" पर
    दो सौ पोस्टिंग्स
    सफलता के साथ पूर्ण कर ली हैं!

    मेरी शुभकामना है कि
    इसी उत्साह के साथ
    निरंतर सृजनरत् रहते हुए
    आप ब्लॉगजगत में
    पोस्टिंग्स के
    अनेकों शतक पूर्ण करें!

    आपसे हमें अनूठी प्रेरणा मिलती है!

    जवाब देंहटाएं
  24. शतक पर शतक लगायें,
    हमारे भीतर भी
    उम्मीद के दिये जलायें.बधाई...

    जवाब देंहटाएं
  25. शास्त्री जी,

    आप को मान गए,
    आप कमाल कर गए,
    बाकी हफ्तों में एक लिखते हैं,
    आप तो दिन में दो लिख गए..

    वाह जी वाह..

    बधाई..
    ~जयंत

    जवाब देंहटाएं
  26. बहुत-बहुत बधाई शास्त्री जी।

    जवाब देंहटाएं
  27. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  28. 200 पोस्ट पूरी होने पर बहुत-बहुत बधाई.. आप तो बहुत धुआंधार ब्लॉगिंग कर रहे हैं.. अच्छा लगेगा जब आप इस साल ही सहस्र का आंकड़ा भी पार कर जाएंगे.. अग्रिम शुभकामनाएं..

    जवाब देंहटाएं
  29. यह तो कमाल है!!!!!!!!!

    हार्दिक शुभकामनाए !!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails