"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 19 मई 2009

‘‘मेरी गैया बड़ी निराली’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


मेरी गैया बड़ी निराली,

सीधी-सादी, भोली-भाली।


सुबह हुई काली रम्भाई,

मेरा दूध निकालो भाई।

हरी घास खाने को लाना,

उसमें भूसा नही मिलाना।


उसका बछड़ा बड़ा सलोना,

वह प्यारा सा एक खिलौना।

मैं जब गाय दूहने जाता,

वह अम्मा कहकर चिल्लाता।

सारा दूध नही दुह लेना,

मुझको भी कुछ पीने देना।


थोड़ा ही ले जाना भैया,

सीधी-सादी मेरी मैया।
(चित्र गूगल से साभार)

12 टिप्‍पणियां:

  1. शास्त्री जी,
    ये बाल कविता बड़ी ही प्यारी है. पहले तो मैं सोच रहा था कि ये गाय और बछडा आपका ही है लेकिन बाद में आपने लिख दिया कि गूगल से साभार.

    जवाब देंहटाएं
  2. कविता तो आपकी वास्तव में बड़ी प्यारी है शास्त्री जी. लेकिन मैं सोच रहा हूं कि हमारे प्यारे भारतवर्ष में बिना मिलावट के कैसे चलेगा? गैया लोग खा पाएगा खाली घास-घास? उन लोग का पेट नहीं ख़राब हो जाएगा! हम लोग का तो पेटे ख़राब हो जाता है बिना पानी वाला दूध पी के.

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही प्यारी.. बहुत सरल... बहुत प्रभावी.. मजा आ गया..

    जवाब देंहटाएं
  4. bahut hee sunder kavita hai isse bachon ko gaye ke bare me bahut kuchh pata chalega badhai

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर बाल कविता, इसके बाल सुलभ भाव इसे बहुत ही लाजवाब बना रहे हैं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  6. इस कविता की प्रशंसा तो मैं तभी कर चुका था, जब पहली बार इसे फुलबगिया में टिप्पणी के रूप में पढ़ा था!

    जवाब देंहटाएं
  7. http://fulbagiya.blogspot.com/2009/04/blog-post_11.html#comments
    --------------------
    इस कविता के लिए तो
    रंजन जी के शब्द ही सबसे सटीक हैं -
    ----------------------
    बहुत ही प्यारी ... ... .
    बहुत सरल ... ... .
    बहुत प्रभावी ... ... .
    मज़ा आ गया ... ... .
    ----------------------
    एक पंक्ति और बढ़ाने का जी कर रहा है -
    --------------------------
    मन को छू लेनेवाली ... ... .

    जवाब देंहटाएं
  8. प्यारी सी....मन को छु लेने वाली बाल कविता............लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  9. गौ माता को समर्पित लिखी गयी कविता बहुत ही सुन्दर है

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत प्यारी न्यारी कविता...
    बचपन के आंगन में ले जाने का शुक्रिया डाक्साब...

    जवाब देंहटाएं
  11. sach aapki kavita bahut hi nirali hai .....bilkul gaiya ki tarah.
    bahut hi badhiya.

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails