"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 8 जुलाई 2009

‘‘गगन में छा गये बादल’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


बड़ी हसरत दिलों में थी, गगन में छा गये बादल।
हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।

गरज के साथ आयें हैं, बरस कर आज जायेंगे,
सुहानी चल रही पुरवा, सभी को भा गये बादल।
हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।

धरा में जो दरारें थी, मिटी बारिश की बून्दों से,
किसानों के मुखौटो पर, खुशी चमका गये बादल।
हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।

पवन में मस्त होकर, धान लहराते फुहारों में,
पहाड़ों से उतर कर, मेह को बरसा गये बादल।
हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।

18 टिप्‍पणियां:

  1. वर्षा का बहुत सुंदर वर्णन किया है.. काश हमारे गगन में भी बादल छाएं.. इंतजार करा रहे हैं..

    जवाब देंहटाएं
  2. आये और अमृत बरसा कर गये बादल।

    जवाब देंहटाएं
  3. मयंकजी आपकी रचना पढ कर आज इधर भी बादल आ गये मगर बिन बरसे चले गये सुन्दर रचना आभार्

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही लाजवाब वर्षा गीत. शुभकामनाएं

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  5. धरा में जो दरारें थी, मिटी बारिश की बून्दों से,किसानों के मुखौटो पर, खुशी चमका गये बादल। हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।।

    bahut sundar!!!

    जवाब देंहटाएं
  6. waah waah,barkha ka itna sundar varnan kiya hai ki ab to hamara dil bhi kahta hai hamare shahar bhi aa jayein badal.

    जवाब देंहटाएं
  7. चलो गाव तक पहुंचा तो बादल
    बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  8. अच्छा है भाई. बादल हर जगह छा जाएँ ....

    जवाब देंहटाएं
  9. कितनी सुन्दर कविता!! एक्दम बारिश का अहसास कराती....बहुत सुन्दर.

    जवाब देंहटाएं
  10. आदरणीय डॉ. शास्त्री साहब,

    हम भी यहाँ इन्दौर में तर-ब-तर हो रहे हैं, बारिश ऐसी ही सुहावनी होती है।

    पढते हुये भी भीगने की ठिठुरन महसूस की जा सकती है।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    जवाब देंहटाएं
  11. हमारे गांव में भी चलकर आ गये आज बादल, बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों के साथ बेहतरीन रचना, आभार्

    जवाब देंहटाएं
  12. बड़ी हसरत दिलों में थी, गगन में छा गये बादल।
    हमारे गाँव में भी आज, चल कर आ गये बादल।

    shashtri ji ........... आपके शब्द, aapki rachna, बारिश से भीगता एहसास लाजवाब है ............kaash hamaare desh भी baadal आ jaayen

    जवाब देंहटाएं
  13. हम तो इंतजार कर रहे है..

    जवाब देंहटाएं
  14. इस बेहतरीन रचना के लिए ढेर सारी बधाइयाँ! आपकी ये सुंदर कविता पड़कर ऐसा लगा मानो बारीश शुरू हो गई है! बहुत खूब!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails