"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 28 अगस्त 2014

"प्यार-...क्या है?... रॉबर्ट लुई स्टीवेंसन" (अनुवादक-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

क्या है प्यार-रॉबर्ट लुई स्टीवेंसन
"काव्यानुवाद"
-0-0-
आज तुम्हारे बिना हमारा,
कितना शान्त अकेला घर है।
नये-पुराने मित्रवृन्द के लिए
प्रशंसा के कुछ स्वर हैं।

सुन्दर और युवा मित्रों के,
लिए बना है माह दिसम्बर।
किन्तु मई का मास अलग है,
छिपा अनुग्रह इसमें सुखकर।

पेरिस का तो हरा रंग है,
नीले रंग का मेरा अम्बर।
जैसा पाया वही लिखा है,
नहीं किया है कुछ आडम्बर।

दूर बहुत है ऊँची चोटी,
मुझको करती हैं आकर्षित,।
कभी न विस्मृत कर पाऊँगा,
अपने करता भाव समर्पित।
Robert Louis Stevenson
Nationality - Scottish
Date of Birth- November 13, 1850
Death Date- December 3, 1894

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर अनुवाद...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (29.08.2014) को "सामाजिक परिवर्तन" (चर्चा अंक-1720)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दूर बहुत है ऊँची चोटी,
    मुझको करती हैं आकर्षित,।
    कभी न विस्मृत कर पाऊँगा,
    अपने करता भाव समर्पित।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर प्रस्तुति आदरणीय धन्यवाद !
    आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 29 . 8 . 2014 दिन शुक्रवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails