"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 21 दिसंबर 2014

“गीत-सिमट रही खेती सारी” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

सब्जी, चावल और गेँहू की, सिमट रही खेती सारी। 
शस्यश्यामला धरती पर, उग रहे भवन भारी-भारी।। 

बाग आम के-पेड़ नीम के आँगन से  कटते जाते हैं, 
जीवन देने वाले वन भी, दिन-प्रतिदिन घटते जाते है, 
लगी फूलने आज वतन में, अस्त्र-शस्त्र की फुलवारी। 
शस्यश्यामला धरती पर, उग रहे भवन भारी-भारी।। 

आधुनिक कहलाने को,  पथ अपनाया हमने विनाश का, 
अपनाकर पश्चिमीसभ्यता  नाम दिया हमने विकास का, 
अपनी सरल-शान्त बगिया में सुलगा दी है चिंगारी। 
शस्यश्यामला धरती पर, उग रहे भवन भारी-भारी।। 

दूध-दही की दाता गइया, बिना घास के भूखी मरती, 
कूड़ा खाने वाली मुर्गी, पुष्टाहार मजे से चरती, 
सुख के सूरज की आशाएँ तकती कुटिया बेचारी। 
शस्यश्यामला धरती पर, उग रहे भवन भारी-भारी।। 

बालक तरसे मूँगफली को,  बिल्ले खाते हैं हलवा, 
सत्ता की कुर्सी हथियाकर, काजू खाता है कलवा, 
निर्धन कृषक कमाता माटी, दाम कमाता व्यापारी। 
शस्यश्यामला धरती पर, उग रहे भवन भारी-भारी।। 

मुख में राम बगल में चाकू, कर डाला बरबाद सुमन, 
आचारों की सीख दे रहा, अनाचार का अब उपवन, 
गरलपान करना ही अब तो जन-जन की है लाचारी। 
शस्यश्यामला धरती पर, उग रहे भवन भारी-भारी।।

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर.
    कंक्रीट के जंगलों में धरती की हरीतिमा सिमट रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा लिखा है मेरा भी देखे http://gyankablog.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails