"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शनिवार, 10 अक्तूबर 2020

दोहे "साली से है प्यार" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
सम्बन्धों का है यहाँ, अजब-गजब संसार।
घरवाली से भी अधिक, साली से है प्यार।।
--
अपनी बहनों से नहीं, भाई करते प्यार।
किन्तु सालियों से करें, प्यारभरी मनुहार।।
--
जीजा-साली का बहुत, होता नाता खास।
जिनके साली हैं नहीं, वो हैं बहुत उदास।।
--
साली से अनुराग है, सालों से ससुराल।
साली जीजा का रखे, सबसे ज्यादा ख्याल।।
--
साली जीजा के लिए, होती है अनुकूल।
लगती उसकी गालियाँ, जीजा जी को फूल।।
--
साली के बिन तो लगे, सूना सब संसार।
सम्बन्धों का सालियाँ, होती हैं आधार।।
--
छोटी हो चाहे बड़ी, साली रस की खान।
इसीलिए तो सब करें, साली का गुणगान।।
--
साली है ऐसा सुमन, जिसमें है मकरन्द।
साली की तो गन्ध से, मिल जाता आनन्द।।
--
कभी रहे इकरार तो, कभी रहे इनकार।
जीजा साली में चले, मधुर-मधुर तकरार।।
--
जब करती हैं सालियाँ, खुलकर हँसी मजाक।
घरवाली यह देखकर, रह जाती आवाक।।
--
आधी घरवाली नहीं, कहना इसको मित्र।
रखना हरदम चाहिए, अपना साफ चरित्र।।
--

7 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्कुल सही कहा कि साली को कभी भी आधी घरवाली बोल कर उसका अपमान नही करना चाहिए। बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  2. आधी घरवाली नहीं, कहना इसको मित्र।
    रखना हरदम चाहिए, अपना साफ चरित्र।।
    सही कहा हँसी मजाक अलग बात है पर साली को आधी घरवाली कहकर अपने चरित्र को खराब न करें...।
    सुन्दर दोहे।

    जवाब देंहटाएं
  3. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा सोमवार 12 अक्टूबर 2020) को 'नफ़रतों की दीवार गहरी हुई' (चर्चा अंक 3852 ) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्त्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाए।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    #रवीन्द्र_सिंह_यादव


    जवाब देंहटाएं
  4. सम्बन्धों का है यहाँ, अजब-गजब संसार।
    घरवाली से भी अधिक, साली से है प्यार।।

    जीजा साली पर भी बहुत ही सटीक लाइन है

    जवाब देंहटाएं
  5. ''साली से अनुराग है, सालों से ससुराल। साली जीजा का रखे, सबसे ज्यादा ख्याल।।'''

    साली वाला अनुराग क्या होता है, नहीं पता !
    अलबत्ता सालों से ससुराल का स्नेह जरूर मिला

    जवाब देंहटाएं
  6. आधी घरवाली नहीं, कहना इसको मित्र।
    रखना हरदम चाहिए, अपना साफ चरित्र।।
    ..सौ बात की एक बात

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails