"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 1 मार्च 2009

अब प्यार करने के दिन आ गये हैं। (डॉ0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


नये रंग भरने के दिन आ गये हैं।
अब प्यार करने के दिन आ गये हैं।


जुदाई का गम, दिल से जाने लगा है,

सुखद स्वप्न नयनों मे छाने लगा है,

सजने-सँवरने के दिन आ गये हैं।

अब प्यार करने के दिन आ गये हैं।।


अंधेरा मिटाने को, सूरज उगा है,

तन-मन में सोया, सुमन भी जगा है,

गेसू झटकने के दिन आ गये हैं।

अब प्यार करने के दिन आ गये हैं।।


मधुवन मे छायी, महक ही महक है,

चिड़ियों के स्वर में चहक ही चहक है,

महकने-चहकने के दिन आ गये हैं।

अब प्यार करने के दिन आ गये हैं।।


उड़ें फाग-फागुन के फिर से गगन में,

खिले फूल फिर से, गुलाबी चमन में।

चमकने-निखरने के दिन आ गये हैं।

अब प्यार करने के दिन आ गये हैं।।

16 टिप्‍पणियां:

  1. शास्त्री जी!
    चित्रों के माध्यम से गीत का प्रस्तुतिकरण अच्छा है।
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  2. अच्छे प्रणय-गीत के लिए
    मुबारकवाद।

    जवाब देंहटाएं
  3. फागुन का सुंदर काव्यात्मक स्वागत। बहुत बढ़िया।

    जवाब देंहटाएं
  4. बसन्ती मौसम का अच्छा वर्णन है,
    अच्छी रचना के लिए बधायी।

    जवाब देंहटाएं
  5. उड़े -फागुन के फिर से गगन में,
    खिले फूल फिर से, गुलाबी चमन में।

    चमकने-निखरने के दिन आ गये हैं।
    अब प्यार करने के दिन आ गये हैं।।
    सुन्दर गीत।

    जवाब देंहटाएं
  6. सशक्त कविता के लिए,
    शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  7. इस मौसम के लिए आपका
    अच्छा प्रणय गीत है।
    लिखते रहें।

    जवाब देंहटाएं
  8. मयंक जी !
    आपने सुन्दर गीत लिखा है।
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  9. मयंक जी !
    आपने सुन्दर गीत लिखा है।
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  10. मधुवन मे छायी, महक ही महक है,

    चिड़ियों के स्वर में चहक ही चहक है,

    महकने-चहकने के दिन आ गये हैं।

    अब प्यार करने के दिन आ गये हैं।।

    वाह लाजवाब शबों मे यह सुंदर गीत और उतने ही सुंदर चित्र. बहुत धन्यवाद और शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  11. मधुवन मे छायी, महक ही महक है,

    चिड़ियों के स्वर में चहक ही चहक है,
    ...अच्छी पंक्तियां.

    जवाब देंहटाएं
  12. sach ..............pyar karne ke din aa gaye..........kavita padhkar jivant ho gaye pyar ke din.
    mausam hi aisa hai aur us par ye kavita un dinon ko jivant karti huyi..........waah, kya kahne.

    जवाब देंहटाएं
  13. bahut sundar rachna he..yu hi taarif nahi kar raha hu..mujhe maza aagaya..
    hindi me gazal yaa kavita ki baat hi kuchh aour hoti he..mithaas isme bhi bahut hoti he. aapki kalam me shakti he.

    जवाब देंहटाएं
  14. मिलने-मिलाने के दिन आ गए हैं,
    शिकवे मिटाने के दिन आ गए हैं!
    सुमन में प्रणय की मधुर गंध भरकर,
    सजने-सँवरने के दिन आ गये हैं!

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत अच्छा लगा आपके यहाँ आकर.

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails