"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

समर्थक

शनिवार, 7 मार्च 2009

होली का हुड़दंग मचा है। (डॉ0 रूपचन्द्र शास्त्री मयंक)


होली का हुड़दंग मचा है,
गाँव-गली, घर-द्वारों में।

ठण्डाई और भंग घुट रही,

आंगन और चौबारों में।

प्रेम-गीत और ढोल नगाड़े,

साज सुरीले बजते हैं,

रंग-बिरंगी पिचकारी की,

चहल-पहल बाजारों में।


राधा-रानी, कृष्ण-कन्हैया,

हँसी-ठिठोली करते है,

गोरी की चोली भीगी है,

फागुन-फाग, फुहारों में।


खुशियों के सन्देशे लेकर,

पवन-बसन्ती आयी है,

दुल्हिन का मन रंगा हुआ है,

सतरंगी बौछारों में।


कर सोलह सिंगार धरा ने,

अनुपम छटा बिखेरी है,

खेत, बाग, वन-मन-उपवन,

छाये हैं मस्त बहारों में।

14 टिप्‍पणियां:

  1. वैसे तो होली की मस्ती,
    भइया, सब पर छाई है!

    लेकिन उच्चारण पर यह
    सबसे ज़्यादा गदराई है!

    जवाब देंहटाएं
  2. होली है भई होली है ये तो सब होगा ही । सुन्दर होली गीत ।

    जवाब देंहटाएं
  3. होली की शुभ-कामनाएं आपको तथा आपके प्रत्येक सदस्य को ।

    जवाब देंहटाएं
  4. Holi Ki badhai !!
    -------------------------
    महिला दिवस पर युवा ब्लॉग पर प्रकाशित आलेख पढें और अपनी राय दें- "२१वी सदी में स्त्री समाज के बदलते सरोकार" ! महिला दिवस की शुभकामनाओं सहित...... !!

    जवाब देंहटाएं
  5. holi to hoti hi aisi hai ki sukhe huye patton mein bhi rang bhar de,har gulshan ko gulzaar kar de.........aapne bahut badhiya likha hai.......holi ka har rang har masti sab hai aapki kavita mein.

    जवाब देंहटाएं
  6. होली पर
    आपकी यह कविता
    बहुत बढ़िया है।

    जवाब देंहटाएं
  7. शास्त्री जी ।
    होली पर आपने अपने ब्लाग पर
    कविताओं के साथ-साथ रंगों की
    भी बरसात कर दी।
    आपको होली की मुबारकवाद।

    जवाब देंहटाएं
  8. मयंक जी ।
    बहुत सुन्दर होली गीत।

    जवाब देंहटाएं
  9. अब ब्लाग के साथ ही
    गलियों में भी होली की तरंग है।
    सुन्दर होली गीत।

    जवाब देंहटाएं
  10. आपके होली गीत में
    प्रकृति का सिंगार भी अनूठा है।
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  11. होली का हुड़दंग मचा है,
    गाँव-गली, घर-द्वारों में।
    ...............
    ...............

    रंग-बिरंगी पिचकारी की,
    चहल-पहल बाजारों में।

    एक अच्छा होली गीत।

    जवाब देंहटाएं
  12. होली का हुड़दंग।
    आपको होली की
    शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  13. अति सुन्दर!
    प्रकृति की छटा देखते ही बनती है..
    होली की शुभकामनायें!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails