"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 18 मार्च 2009

अमीर वो है जिसका कोई जमीर होता है। (कवि देवदत्त ‘प्रसून’ की एक गजल)


(श्री देवदत्त ‘प्रसून’ मेरे बहुत पुराने मित्र हैं। कविताएँ लिखना और देश के कोने-कोने की यात्राएँ करना इनकी आदत है। वर्तमान में ये सरकारी अध्यापक के पद से अवकाशप्राप्त कर चुकें हैं, बहुत जल्दी ही ये ब्लाग-जगत पर भी आने वाले हैं। इनकी एक यथार्थवादी गजल को प्रकाशित कर रहा हूँ-

(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



दौलत से कहीं कोई अमीर होता है,

अमीर वो है जिसका कोई जमीर होता है।

लोहा तो लोहा है, चाहे जो बना लो,

लोहा जो पिट जाये, शमशीर होता है।

नस-नस में आग भर देता, चुभ जाये तो,

ततैया-डंक बहुत ही हकीर होता है।

जीना हराम कर दे, छीन ले दिल का चैन,

कोई काँटा जब बगलगीर होता है।

भलाई करे और खुद का पता तक न दे,

बस वही तो सच्चा, दानवीर होता है।

रावण की लंका जला दे जो ‘प्रसून’,

दिखने में छोटा सा महावीर होता है।


9 टिप्‍पणियां:

  1. अमीर वो है जिसका कोई जमीर होता हैं. एक यथार्थवादी बढ़िया गजल है . धन्यवाद.

    जवाब देंहटाएं
  2. अमीर वो है जिसका कोई जमीर होता हैं. एक यथार्थवादी बढ़िया गजल है . धन्यवाद.

    जवाब देंहटाएं
  3. आदरणीय शास्त्री जी!

    मुझे यह रचना बहुत पसन्द है।

    आपने मेरी रचना प्रकाशित की। धन्यवाद।

    आप बधाई के पात्र हैं।

    जवाब देंहटाएं
  4. SHER ACHHE HAIN,
    BHAV ACHHE HAIN,
    LEKIN GAZAL MEN MATRAON
    KA SANTULAN THIK NAHIN HAI.

    जवाब देंहटाएं
  5. प्रसून जी!
    आप बनबसा से क्या गये,
    आपने तो कवि-गोष्ठियों तक में
    आना बन्द कर दिया।
    आपकी यह रचना सुन्दर है।
    कई बार आपके मुख से सुनी है।
    आपको ब्लाग पर लाने के लिए
    शास्त्री जी का आभारी हूँ।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत लाजवाब रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत खुबसूरत गज़ल है ....आप दोनों को बहुत-बहुत बधाई...

    जवाब देंहटाएं
  8. आपकी ये पंक्तियाँ बहुत पसंद आयीं .....

    भलाई करे और खुद का पता तक ना दे
    बस वही तो सच्चा दानवीर होता है

    जवाब देंहटाएं
  9. शास्त्रीजी,वर्श्प्रतिपदाकी आपको वधाई,पुनःआज एक रचना ब्लॉग में दाल रहा हूँ

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails