"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 4 मार्च 2009

क्या आयेगा सवेरा? (डॉ0 रूपचन्द्र शास्त्री मयंक)


दिन चार चाँदनी के,
फिर छायेगा अन्धेरा।
दो दिन की जिन्दगी में,
क्या पायेगा सवेरा।।


जीवन के इस सफर में,
मरुथल उजाड़ होंगे,
खाई-कुएँ भी होंगे,
ऊँचे पहाड़ होंगे,
चलना ही जिन्दगी है,
करना नही बसेरा।।


करना न कामनाएँ,
सपने नही सजाना,
आया है जो जगत में,
उसको पड़ा है जाना,
दुनिया है धर्मशाला,
कुछ भी नही है तेरा।।


पाया अगर है जीवन,
निष्काम बनके जीना,
सुख-दुख, सरल-गरल को,
चुप-चाप होके पीना,
काजल की कोठरी में,
उजला ही रखना डेरा।।


दिन चार चाँदनी के,
फिर छायेगा अन्धेरा।
दो दिन की जिन्दगी में,
क्या पायेगा सवेरा।।

16 टिप्‍पणियां:

  1. एक सार्थक संदेश देती जीवंत रचना के लिये बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. सुख-दुख, सरल-गरल को,
    चुपचाप होके पीना,
    काजल की कोठरी में,
    उजला ही रखना डेरा।।
    bahut hi sarthak rachna .
    jeevan urja bharaa sandesh deti hui.

    badhayee.

    जवाब देंहटाएं
  3. लिखा तो बहुत अच्छा है और जीवन की सच्चाई भी यही है |
    पर और अच्छा होता अगर आप इसको सकारात्मक बनाते |
    दिन चार जिन्दगी के
    पर क्यों न आएगा सवेरा

    जवाब देंहटाएं
  4. yatharthbodh karati kavita............insaan itna samajh le to zindagi mein phir koi chah hi na rahe..........zindgi saral ho jaye aur jeene ka alag hi mazaa aaye.

    जवाब देंहटाएं
  5. शायद यह भी जीवन चक्र का एक पहलू है.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  6. बेहतरीन संदेश-उम्दा रचना.

    जवाब देंहटाएं
  7. सच्चाई का दीप जलाती हुई
    रचना के लिए
    बधायी।

    जवाब देंहटाएं
  8. जीवन के इस सफर में,
    मरुथल उजाड़ होंगे,
    खाई-कुएँ भी होंगे,
    ऊँचे पहाड़ होंगे,
    चलना ही जिन्दगी है,
    करना नही बसेरा।।

    जीवन की हकीकत को बयां करती हुई,
    नायाब शायरी।
    मुबारकवाद।

    जवाब देंहटाएं
  9. चार दिन की चाँदनी,
    फिर अंधेरी रात।
    सुन्दर रचना, बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत पुरानी यह कविता है,
    अक्षर रास नही आते थे।
    लेकिन अन्तस्तल में मेरे,
    भाव उभर कर जाते थे।।

    वही पुराने चावल फिर से,
    ब्लाग जगत पर लाया हूँ।
    टिप्पणीकारों ने अपनाया,
    धन्यवाद को आया हूँ।।

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत बेहतरीन रचना ...जीवन के लिए सन्देश देती रचना

    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  12. कल 15 /मार्च/2015 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails