"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

समर्थक

मंगलवार, 3 मार्च 2009

चलो होली खेलेंगे। (डॉ0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


मन में आशायें लेकर के,

आया हैं मधुमास,

चलो होली खेलेंगे।


मूक-इशारों को लेकर के,

आया है विश्वास,

चलो होली खेलेंगे।।


मन-उपवन में सुन्दर-सुन्दर,

सुमन खिलें हैं,

रंग बसन्ती पहने,

धरती-गगन मिले हैं,

बाग-बहारों को लेकर के,

छाया है उल्लास,

चलो होली खेलेंगे।


सरिता का सागर में,

ठौर-ठिकाना सा है,

प्रेम-प्रीत का मौसम,

बड़ा सुहाना सा है,

शोख नजारों को ले करके,

आया है दिन खास,

चलो होली खेलेंगे।


सपने जो देखे थे,

वो साकार करेंगे ,

जीवन भर, जी भर कर,

दोनों प्यार करेंगे,

चाँद सितारों को ले करके,

आया है आकाश,

चलो होली खेलेंगे।


सुन्दर है संगीत,

मिलन का गीत सुनाओ,

त्योहारों की रीत,

गले से अब लग जाओ,

नेक विचारों को लेकर के,

पथिक खड़ा है पास,

चलो होली खेलेंगे।


खुशियों की सौगात लिए,

होली आयी है,

चाँदी जैसी रात लिए,

होली आयी है,

सूर्य उजाले लेकर के

लाया है धवल प्रकाश,

चलो होली खेलेंगे।

17 टिप्‍पणियां:

  1. सूर्य उजाले लेकर के
    लाया है धवल प्रकाश,
    चलो होली खेलेंगे।


    बहुत मस्ती और उमंग भरा गीत.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  2. होली गायन की परम्परा में
    यह गीत मील का पत्थर है।
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर है संगीत,
    मिलन का गीत सुनाओ,
    त्योहारों की रीत,
    गले से अब लग जाओ,
    नेक विचारों को लेकर के,
    पथिक खड़ा है पास,
    चलो होली खेलेंगे।


    गीत अच्छा है।
    छन्द सुन्दर बन पड़े है।

    जवाब देंहटाएं
  4. इस होली गीत ने तो सचमुच
    होली का समां बना दिया।
    लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
  5. बाग-बहारों को लेकर के,
    छाया है उल्लास,
    चलो होली खेलेंगे।


    नपे-तुले, सीधे-सादे
    शब्दों में होली गीत अच्छा लगा।

    जवाब देंहटाएं
  6. होली का रंग ही ऐसा है।
    सुन्दर प्रणय गीत।

    जवाब देंहटाएं
  7. चलो होली खेलेंगे
    बहुत ही अच्छा गीत है.

    जवाब देंहटाएं
  8. आशा ही आशा
    लेकर होली आती है!
    मन के उपवन में
    फूलों-सी सज जाती है!

    शोख़ नज़ारों को
    लेकर होली आती है!
    आँखों में ख़ुशियों की
    मेंहदी रच जाती है!

    हर दिल में उल्लास
    लिए होली आती है!
    गीत मिलन के मधु
    कानों में भर जाती है!

    जवाब देंहटाएं
  9. बढ़िया है-चलो होली खेलेंगे.

    जवाब देंहटाएं
  10. bahut badhiya holi geet hai.........holi ke rangon ko dil mein jivant karta.

    जवाब देंहटाएं
  11. चलो होली खेलेगें । बहुत बढ़िया लगा सर जी।

    जवाब देंहटाएं
  12. aapki rachana pasand aayi. man me halki fuhar aayi.

    ise ratlam, jhabua(M.P), dahod(gujarat) se prakasit Dainik Prasaran me prakashit karane ja rahhn hoon.

    kripaya, aap apana postal address mujhe send karen, taaki aapko prati bhijavayi ja saken.

    pan_vya@yahoo.co.in

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails