"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 30 मार्च 2009

‘‘बरगद का वृक्ष’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक)






हमारे पूर्वजों ने,


बरगद का एक वृक्ष लगाया था,


आदर्शों के ऊँचे चबूतरे पर,


इसको सजाया था।


कुछ ही समय में,


यह देने लगा शीतल छाया,


परन्तु हमको,


यह फूटी आँख भी नही भाया।


इसकी शीतल छाया में,


हम बिल्कुल ही डूब गये,


और जल्दी ही,


सारे सुखों से ऊब गये।


हमने काट डाली,


इसकी एक बड़ी साख,


और अपने नापाक इरादों से,


बना डाला एक पाक।


हम अब भी लगे हैं,


इस पेड़ को काटने में,


अपने पापी इरादों से,


लगें है दिलों को बाँटने में।


हे बूढ़े वृक्ष बरगद!


तूने हमारी हमेशा,


धूप और गर्मी से रक्षा की,


और हमने तेरी,


हर तरह से उपेक्षा की।


क्या तुझको आभास नही था,


परिवार में वृद्ध की,


यही होती गति है,


बूढ़े बरगद!


आज तेरी भी,


यही नियति है।।


12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही कटु सत्य बखान करती हुई रचना. शुभकामनाएं.


    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. शास्त्री जी!
    बरगद के पेड़ की मिसाल देकर
    आपने बुजुर्गों की हालत का अच्छा
    बयान किया है।
    मुबारकवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मयंक जी! बरगद के पेड को इंगित
    करके आपने भारत आर यहाँ के लोगों
    की मनोस्थिति का अच्छा चित्रण किया है।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अकविता अच्छी है मित्रवर।
    मैंने ये रचना आपसे कई बार सुनी हैं।
    जितनी बार सुनी है उतनी ही मन को भायी है।
    बधाई स्वीकार करें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. भावपूर्ण रचना के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका यह गद्यगीत अच्छा है।
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शास्त्री ji,

    ye mere vichaar dekhen, dhanyavaad.

    हमारे पूर्वजों ने वरगद इस लिए लगाया
    क्योंकि वो देता है ठंडक और घनी छाया
    हम उनकी रक्षा करना ही भूले हैं दोस्त
    जहाँ खाते हैं वहीँ पर हम ने छेद बनाया

    हम सबको अपनी सोच को बदलना होगा
    वरना ठंडक और छाया को तरसना होगा
    हम अपने लिए जीते हैं इसी लिए रोते है
    यह सोच न बदली तो हमें भटकना होगा

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही कटु सत्य बखान करती रचना....!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. bargad ka vriksh...........naam hi sab kuch kah gaya...........ek katu satya ko bayan karti rachna.aakhiri ki lines to dil ko jhakjhor gayin.

    उत्तर देंहटाएं
  10. aapki sari kabitye parhi bahut hi achchha laga bahut hi satik laga .
    arganikbhagyoday.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. aapki sari kabitye parhi bahut hi achchha laga bahut hi satik laga .
    arganikbhagyoday.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails