"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

समर्थक

शुक्रवार, 13 मार्च 2009

ननकाना साहिब की धरती ने, फिर आज पुकारा है। (डॉ0 रूपचन्द्र शास्त्री मयंक)

ननकाना साहिब की धरती ने, फिर आज पुकारा है।
ले लो पाकिस्तान, यही तो खालिस्तान तुम्हारा है।।

चीख-चीख कर सरहिन्द की, दीवारें याद दिलाती हैं,
गोबिन्द सिंह के लालों की, कुर्बानी तुम्हें बुलाती हैं,
है असली पंजाब वहीं, और सिक्खिस्तान तुम्हारा है।।

भारत की सेनाओं ने, बंगला को मुक्त कराया था,
बंग-बन्धु वो धन्य, जिन्होंने बंगला-देश बनाया था,
करो चढ़ाई दुष्ट-पाक पर, सबका ये ही नारा है।।

प्रथम गुरू की जन्म-भूमि को, फिर वापिस पाना होगा,
नक्शे से नापाक-पाक का, फिर से नाम हटाना होगा,
पाकिस्तान मिटाओ, अब गुरूवाणी ने ललकारा है।।

ननकाना साहिब की धरती ने, फिर आज पुकारा है।
ले लो पाकिस्तान, यही तो खालिस्तान तुम्हारा है।।

12 टिप्‍पणियां:

  1. isse achcha aur munhtod jawab pakistan ke liye nhi ho sakta.

    जवाब देंहटाएं
  2. शास्त्री जी!
    आपने सही लिखा है।
    आज सभी बृहद भारत देखना चाहते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  3. चीख-चीख कर सरहिन्द की, दीवारें याद दिलाती हैं,
    गोबिन्द सिंह के लालों की, कुर्बानी तुम्हें बुलाती हैं,
    है असली पंजाब वहीं, और सिक्खिस्तान तुम्हारा है।।

    असली पंजाब तो वर्तमान पाकिस्तान में ही है। सुन्दर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  4. काश ये सम्भव होता।
    ललकार सही है।
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  5. भारत की सेनाओं ने, बंगला को मुक्त कराया था,
    बंग-बन्धु वो धन्य, जिन्होंने बंगला-देश बनाया था,
    करो चढ़ाई दुष्ट-पाक पर, सबका ये ही नारा है।।

    यह कविता पढ कर,
    आज फिर से इन्दिरा गांधी की
    याद आ गयी। बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  6. सही समय पर सही चोट की जाये।
    इस समय लोहा गर्म है।

    जवाब देंहटाएं
  7. अच्छी जाग्रत शायरी के लिए,
    शुक्रिया।

    जवाब देंहटाएं
  8. bahut achha aur steek
    likha hai....
    yahi aahwaan chahiye..
    badhaaee . . .
    ---MUFLIS---

    जवाब देंहटाएं
  9. पाकिस्तान के नाम पर तो सिर्फ खून ही बहा है - इसे एक दिन तो रुकना ही होगा. वैसे भी नफरत की बुनियाद पर बने देश लम्बे समय तक टिक नहीं सकते हैं.

    जवाब देंहटाएं
  10. हमारा सिर्फ़ एक ही लक्ष्य है संविधान की रक्षा करना चाहे शांती से चाहे फिर क्रांति से।
    Sachin Goel

    🏹 जय श्री राम 🏹

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails