"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 19 मार्च 2009

आप माने या न मानें: ब्लॉगर मित्रों को मेरा सुझाव (डॉ.रुपचन्द्र शास्त्री मयंक)



कई मित्र टिप्पणी अक्सर,

सब रचनाओं पर कर देते हैं,

सुन्दर, बढ़िया लिख करके,

निज जान छुड़ा भर लेते है।

कुछ तो बिना पढ़े ही,

केवल कापी-पेस्ट किया करते हैं,

सबको खुश करने को,

वे प्रतिदान दिया करते है।

भाई मेरे, रचना के बारे में,

भी लिख दिया करो।

आँख मूँद कर, एक तरह की,

नही टिप्पणी किया करो।



28 टिप्‍पणियां:

  1. kya baat hai shastri jiaapne to katusatya kah diya agar koi samjhe to.

    जवाब देंहटाएं
  2. कटु सत्‍य लिखा ... इसमें और क्‍या प्रतिक्रिया दे सकती हूं।

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी इस रचना का ध्येय यदि छंद लिखना है तो ----वाह !!
    ओर यदि सचमुच आप समालोचना पाना चाहते हैं,तो -- आपका साधुवाद..
    वचन देती हूँ,निष्ठापूर्वक समालोचना दिया करुँगी...

    वैसे इस रचना में भी आपने बड़ी ही सुन्दरता से अपने भावों को अभिव्यक्ति दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  4. हम भी कोई प्रतिक्रिया देते अगर यहाँ कोई रचना होती । लेकिन टिप्पणी पर की गई टिप्पणी पर क्या टिपियाएँ ,सो हम तो चले ....!

    जवाब देंहटाएं
  5. आपने अपनी बात बहुत अच्छे से कही है ...:) असर होगा धीरे धीरे

    जवाब देंहटाएं
  6. बात तो सौ फीसदी सही कही कविता के माध्यम से ....

    जवाब देंहटाएं
  7. aap jaisee tippani dena har kisis ke bas mein nahin...aap to turant jawab mein kavita hi rach saktey hain...

    likha saty hai aap ne.


    Aur-kayee log comments mein sirf apna blog address/invitation/advert de jaatey hain...in sab ka kya ilaaaj hai??[jawab--comments moderation!]

    जवाब देंहटाएं
  8. कृप्या बुरा न मानें- अगर रचना आधारित टिप्पणी चाहते हैं तो उपरोक्त रचना जहाँ एक ओर अपनी बात कहने में सफल रही, वहीं गेयता की दृष्टि से मात्राओं की गिनती में त्रुटि है, जरा गिन कर देखियेगा. गाने में अटकन आ रही है.


    अरे!! आप तो बुरा मान गये, ये वाली टिप्पणी वापस लेते हैं हम और ये नई वाली रखिये...

    "बेहतरीन उम्दा रचना"

    -कौन सी बेहतर है भाई जी??

    जवाब देंहटाएं
  9. बड़े भाई मयंक जी,

    उच्चारण पर
    सौवीं पोस्ट के
    प्रकाशन पर
    मेरी हार्दिक शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  10. सर झि, सबसे पहले तो आपको सौवीं पोस्ट की बधाई और शुभकामनाएं.

    बात आपने पते की कही. पर तीपणी करना भी एक तरह का सृजन ही है जो शायद आपके जैसा हर किसी मे नही है.

    आपकी तो एक टिपणि ही पाकर आनन्दित हो जाते हैं क्योंकि वो टिपणि नही पूरी एक कविता मयी पोस्ट होती है.

    कुछ बच्चे ऐसी गलती भी कर जाते हैं और कुछ संकोचवश या ना समझी के कारण भी ऐसा करते होंगे.

    बहुत शुभकामनाएं आपको.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  11. अरे सर!!! सौ वीं पोस्ट की बधाई देना तो भूल ही गया..बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाऐं.

    कुछ बुरा लगा हो तो क्षमाप्रार्थी हूँ.

    जवाब देंहटाएं
  12. मुझे भी मालूम नहीं हो सका था कि यह आपकी सौंवी पोस्‍ट है ... बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  13. aapki rachna padh kar aaye hain isliye copi paste nahi kar rahe....!!

    जवाब देंहटाएं
  14. सर्वप्रथम ब्लाग की सौंवी पोस्ट के उपलक्ष्य में बधाई स्वीकार करें........तत्पश्चात आपकी बात का समर्थन करते हुए सिर्फ इतना ही कह सकता हूं कि यहां पोस्ट पढना कोन चाहता है,सिर्फ आपसी संबंधों का निर्वहण ही किया जा रहा है......

    जवाब देंहटाएं
  15. मयंक जी!
    आपको जाल-जगत पर
    सौवीं पोस्ट लगाने की बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  16. शास्त्री जी,
    सौवीं पोस्ट के लिए मुबारकवाद।
    आपके सुझाव पर मैं क्या
    नुक्ता-चीनी कर सकता हूँ ।

    जवाब देंहटाएं
  17. आपकी सौवीं पोस्ट बिल्कुल अलग है।
    बधायी।

    जवाब देंहटाएं
  18. आपकी सौवीं पोस्ट
    बिल्कुल अलग है।
    बधायी।

    जवाब देंहटाएं
  19. मयंक जी!
    आपने ब्लाग पर 100वीं पोस्ट
    की मंजिल पार कर ली है।
    मेरी कामना है कि आप
    स्वस्थ रहते हुए शतायु हों।

    जवाब देंहटाएं
  20. मित्रवर मयंक जी।
    सौवीं प्रविष्टि के लिए।
    ढेर सारी शुभ कामनाएँ।
    वर्जना अच्छी है।

    जवाब देंहटाएं
  21. मंयक जी,
    आज क्या प्रकाशित कर दिया।
    ना-समझ तो रुष्ट होंगे।
    शेष सुझाव को सहजता से लेकर
    इस सुझाव पर ध्यान देंगे।
    100वीं प्रविष्टिी के लिए,
    बधायी।

    जवाब देंहटाएं
  22. समीर जी ने ध्यान दिलाया तो पता चला- सेंचरी के लिए बधाई। सच कहें तो टिप्पणी अपनी हाज़री दर्ज कराने के लिए ही तो लिखी जाती है:)

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails