"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 17 अक्तूबर 2009

"सूर्य तो अज्ञान का, ढलता रहेगा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")






युग सदा विज्ञान का, चलता रहेगा।
यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।।


आँधियाँ भीषण चलें, और जलजले आते रहें,
यज्ञ तो परित्राण का, फलता रहेगा। 

यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।।


कर्म का नही चक्र रुकना चाहिए,
नेह तो इन्सान का, पलता रहेगा।
यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।।

धर्म की राहें, कुटिल सी हो गयीं,
ह्रास तो भगवान का, खलता रहेगा। 
यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।।


सत्य का झण्डा कभी झुकता नही,
सूर्य तो अज्ञान का, ढलता रहेगा।
यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।।


13 टिप्‍पणियां:

  1. धर्म की राहें, कुटिल सी हो गयीं,
    ह्रास तो भगवान का, खलता रहेगा।
    यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।।
    बहुत सुन्दर शास्त्री जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीपावली के पावन पर्व पर हार्दिक मंगल कामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीपावली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवार को शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. "आलोक-पर्व की अनंत हार्दिक मंगल कामनाएँ"

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर, शास्त्री जी !
    आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर!!

    सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल 'समीर'

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर. दीपावली की शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर व बढिया रचना है।बधाई शास्त्री जी।
    दीवाली की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बड़ी संवेदना है आपके उच्चारण में. अक्सर पढता हूँ आपका उच्चारण. लेकिन कभी दो घडी कोई गुफ्तगू नहीं की आपसे. लेकिन आपकी कविता पढ़ कर ऐसा लगा जैसे दिल के भावः दिल को छु गए हो. बधाई के साथ साथ गुफ्तगू परिवार की और से दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाये. मयंक जी आपकी कविता पढ़ कर इतना तो कह सकता हूँ की आप अपने दिल के भावः को शब्दों में पिरो कर कविता लिखते है और मैं उन्ही भावो से गुफ्तगू करता हूँ. पुनः बधाई और दीवाली मुबारक

    उत्तर देंहटाएं
  10. दिवाली की समस्त शुभकामनाएं पुरे परिवार को ...


    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  11. aaj kal aap ki rachnayen nikhar par.bahut achchha lag raha hai.itihaas rach rahe hain aap. dil se badhai!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. सत्य का झण्डा कभी झुकता नही,
    सूर्य तो अज्ञान का, ढलता रहेगा।
    यह दिया है ज्ञान का, जलता रहेगा।।


    bahut hi gyan ki baat kahi hai aapne..........


    bahut sunder

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails