"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 27 अक्तूबर 2009

"प्यार माँगता हूँ" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


मै प्यार का हूँ राही और प्यार माँगता हूँ।
मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।

सूनी सी ये डगर हैं,
अनजान सा नगर हैं,
चन्दा से चाँदनी का आधार माँगता हूँ।
मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।

सूरज चमक रहा है,
जग-मग दमक रहा है,
किरणों से रोशनी का संसार माँगता हूँ।
मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।
यह प्रीत की है डोरी,
ममता की मीठी लोरी.
मैं स्नेहसिक्त पावन परिवार माँगता हूँ।
मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।

20 टिप्‍पणियां:

  1. मैं स्नेहसिक्त पावन परिवार माँगता हूँ।

    मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।

    सारगर्भित रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं स्नेहसिक्त पावन परिवार माँगता हूँ, एक बार फिर आप लाये माधुर्य को घोल इतनी सुन्‍दर प्रस्‍तुति जिसकी हर पंक्ति रसभरी, आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. waah waah.............bahut sundar likha ..........mishri si ghol di.

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह प्रीत की है डोरी,

    ममता की मीठी लोरी.

    मैं स्नेहसिक्त पावन परिवार माँगता हूँ।

    मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।

    बहुत सुंदर !

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह प्रीत की है डोरी,
    ममता की मीठी लोरी.
    मैं स्नेहसिक्त पावन परिवार माँगता हूँ।
    मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।


    bahut hi sunder.........rachna

    उत्तर देंहटाएं
  6. अनजान सा नगर हैं,
    चन्दा से चाँदनी का आधार माँगता हूँ।
    मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।

    Bahut sundar abhivyakti..badhiya laga padh kar...dhanywaad

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बहुत स्वागत और अभिनन्दन इस अनुपम रचना का...........

    वाह !
    प्यार मांगता हूँ को जीवन्त कर दिया आपने..........

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर chitron से सजी ..... लाजवाब रचना है ........ राम राम शास्त्री जी .............

    उत्तर देंहटाएं
  9. उठते नहीं हैं हाथ मेरे इस दुआ के बाद ...

    मैं स्नेहसिक्त पावन परिवार माँगता हूँ।
    मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।

    सब कुछ तो मांग लिया ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. खुबसूरत सुबह सा खुबसूरत गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  11. किरणों से रोशनी का संसार माँगता हूँ।
    मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।
    मनमोहक चित्रो से लैस खूबसूरत रचना
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  12. मैं स्नेहसिक्त पावन परिवार माँगता हूँ।

    मंजिल से प्यार का ही उपहार माँगता हूँ।।
    बहुत सुंदर रचना,
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपने बेहद सुंदर रचना लिखा है ! इस बेहतरीन रचना के लिए बधाई !

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails