"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 21 अक्तूबर 2009

"यह धरती का है भगवान।" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

!! किसान !!

सूरज चमका नील-गगन में।
फैला उजियारा आँगन में।।


काँधे पर हल धरे किसान।
करता खेतों को प्रस्थान।।


मेहनत से अनाज उपजाता।
यह जग का है जीवन दाता।।


खून-पसीना बहा रहा है।
स्वेद-कणों से नहा रहा है।।


जीवन भर करता है काम।
लेता नही कभी विश्राम।।


चाहे सूर्य अगन बरसाये।
चाहे घटा गगन में छाये।।


यह श्रम में संलग्न हो रहा।
अपनी धुन में मग्न हो रहा।।


मत कहना इसको इन्सान।
यह धरती का है भगवान।।

18 टिप्‍पणियां:

  1. हे ग्राम देवता नमस्कार
    सोने चांदी से नहीं किन्तु
    तुमने मिटटी से किया प्यार ( डा.रामकुमार वर्मा )
    sundar rachna ke liya badhayi

    उत्तर देंहटाएं
  2. मत कहना इसको इन्सान।
    यह धरती का है भगवान।।

    jee bilkul sahi....

    bahut hi sunder rachna....

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको और ' धरती के भगवान् ' दोनों को शत शत प्रणाम !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब शःस्त्री जी ;
    इस जग का अन्नदाता है यह, कोई दूजा नहीं
    मगर हम स्वार्थी इंसानों ने कभी इसे पूजा नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  5. Kisan..ek naam jo khud tap kar hamen bhojan deta hai..bahut badhiya kavita..shastri ji dhanywaad is sundar kavita ko prstut karane ke liye..

    उत्तर देंहटाएं
  6. सूरज चमका नील-गगन में।
    फैला उजियारा आँगन में।।


    काँधे पर हल धरे किसान।
    करता खेतों को प्रस्थान।।


    मेहनत से अनाज उपजाता।
    यह जग का है जीवन दाता।।


    वाह ,शास्त्री जी सही कहा है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिलकुल सही कहा आप ने एक किसान ही धरती का भगवान है.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. साधु साधु
    बहुत ही प्यारी कविता किसान की............................
    अभिनन्दन !

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह वाह..बहुत ही सदविचार इस कविता के माध्यम से रखे आपने.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अत्यंत सुंदर रचना और साथ में बहुत अच्छी तस्वीर!

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीवन भर करता है काम।
    लेता नही कभी विश्राम।।.....sahi kaha apne...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बिलकुल सही कहा आपने....
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. मत कहना इसको इन्सान।
    यह धरती का है भगवान।।

    बहुत सही ...कलियुग में भगवान होने से बढ़कर दुःख भी नहीं है कोई ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. मत कहना इसको इन्सान।
    यह धरती का है भगवान....

    जय जवान जय किसान .......... सच लिखा है .... सुन्दर रचना है ...........

    उत्तर देंहटाएं
  15. waah waah ...........bahut hi sundar kavita likhi hai........badhayi

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails