"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 23 अक्तूबर 2009

"कुछ गीत मचल जाते है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

समय चक्र में घूम रहे जब मीत बदल जाते हैं।
उर अलिन्द में झूम रहे नवगीत मचल जाते है।।

जब मौसम अंगड़ाई लेकर झाँक रहा होता है,
नये सुरों के साथ सभी संगीत बदल जाते हैं।
उर अलिन्द में झूम रहे कुछ गीत मचल जाते है।।

उपवन में जब नये पुष्प अवतरित हुआ करते हैं,
पल्लव और परिधानों के उपवीत बदल जाते हैं।
उर अलिन्द में झूम रहे कुछ गीत मचल जाते है।।

रात अमावस में "मयंक" जब कारा में रहता है,
कृष्ण-कन्हैया के माखन नवनीत बदल जाते हैं।
उर अलिन्द में झूम रहे कुछ गीत मचल जाते है।।

चलते-चलते भुवन-भास्कर जब कुछ थक जाता है,
मुल्ला-पण्डित के पावन उद्-गीथ बदल जाते है।
उर अलिन्द में झूम रहे कुछ गीत मचल जाते है।।

जीवन का अवसान देख जब यौवन ढल जाता है,
रंग-ढंग, आचरण, रीत और प्रीत बदल जाते हैं।।
उर अलिन्द में झूम रहे कुछ गीत मचल जाते है।।


23 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह शास्त्री जी बहुत खूब लिखा है आपने! रचना का हर एक शब्द इतना सुंदर है की क्या बताऊँ ! इस रचना की जितनी भी तारीफ की जाए कम है! बेहद ख़ूबसूरत और उम्दा रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत दिनों बाद इतनी श्रेष्‍ठ रचना पढने को मिली। जिन्‍दगी का सत्‍य यही है, उसका दर्शन यही है। बधाई। ऐसे ही लिखें और हमें प्रेरित करते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उपवन में जब नये पुष्प अवतरित हुआ करते हैं,

    पल्लव और परिधानों के उपवीत बदल जाते हैं।

    उर अलिन्द में झूम रहे कुछ गीत मचल जाते है।।

    बहुत सुन्दर और गूढ़ भाव शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह, मयंक जी आप तो ब्लॉगजगत के सबसे स्टार कवि है, यकीनन ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बदलना और मचलना जीवन की रीत है

    इनसे नव गीत रचना जीवन संगीत है
    प्रीत बदले या बदले मीत पर जीत बदले

    हालात कभी ऐसे बेकाबू नहीं नजराते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. उपवन में जब नये पुष्प अवतरित हुआ करते हैं,
    पल्लव और परिधानों के उपवीत बदल जाते हैं।

    बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मयंक जी बहुत सुन्दर व उम्दा रचना है।बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ek shresth rachna likhne par meri aur se badhai sweekaar kare

    http/jyotishkishore.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह देखें Dewlance Web Hosting - Earn Money

    सायद आपको यह प्रोग्राम अच्छा लगे!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बढ़िया सुन्दर रचना लगी आपकी यह

    उत्तर देंहटाएं
  11. Shastri ji..behad sundar kavita likhi hai aapne sach me baar baar gunguna raha hoon bahut achchi lagi...dhanywaad

    उत्तर देंहटाएं
  12. " adbhut ...saral ta bhare alfaz se umda rachana banana koi aap se sikhe ...aapki is likhnee ko salam "

    " behad hi anmol rachana ke liye aapko badhai "

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर रचना शास्त्री जी, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  14. जब इतने खुबसूरत कारण है तो
    गीत तो मचलेंगे ही ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. waah waah...........bahut hi sundar prastutikaran ..........alag hi rang liye huye.

    उत्तर देंहटाएं
  16. रात अमावस में "मयंक" जब कारा में रहता है,
    कृष्ण-कन्हैया के माखन नवनीत बदल जाते हैं।
    उर अलिन्द में झूम रहे कुछ गीत मचल जाते है।।

    लाजाव्ब गीत है मयंक जी आज फिर आपकी लेखनी को सलाम । इन दिनो कुछ तबीयत खराब ह्one ोए कई बार आपकी पोस्ट रह जाती है । कुछ दिन मे रेगुलर हो जाऊँगी स्धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  17. जीवन का अवसान देख जब यौवन ढल जाता है,
    रंग-ढंग, आचरण, रीत और प्रीत बदल जाते हैं।।.... ख़ूबसूरत...बहुत सुन्दर...... """""

    उत्तर देंहटाएं
  18. डॉ.इन्द्र देव माहर जी!
    आपको हिन्दी में टिप्पणी करते देखकर अच्छा लगा!
    आशीर्वाद!

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर गीत मचला..वाह!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह बहुत खुबसूरत गुनगुनाने लायक गीत ..

    उत्तर देंहटाएं
  21. समय चक्र में घूम रहे जब मीत बदल जाते हैं।
    उर अलिन्द में झूम रहे नवगीत मचल जाते है।।
    saarthak rachna ke liye badhai!!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails