"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 19 अक्तूबर 2009

"दूज के इस तिलक में यही भावना" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


मेरे भइया तुम्हारी हो लम्बी उमर,
कर रही हूँ प्रभू से यही कामना।
लग जाये किसी की न तुमको नजर,
दूज के इस तिलक में यही भावना।।


चन्द्रमा की कला की तरह तुम बढ़ो,
उन्नति के शिखर पर हमेशा चढ़ो,
कष्ट और क्लेश से हो नही सामना।
दूज के इस तिलक में यही भावना।।


थालियाँ रोली चन्दन की सजती रहें,
सुख की शहनाइयाँ रोज बजती रहें,
पूर्ण हों भाइयों की सभी साधना।
दूज के इस तिलक में यही भावना।।


रोशनी से भरे दीप जलते रहें,
नेह के सिन्धु नयनों में पलते रहें,
आज बहनों की हैं ये ही आराधना।
दूज के इस तिलक में यही भावना।।


(चित्र गूगल सर्च से साभार)

16 टिप्‍पणियां:

  1. रोशनी से भरे दीप जलते रहें,
    नेह के सिन्धु नयनों में पलते रहें
    बहुत खूब, भाईयो के लिये तो बहनो की यही कामना है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरी भइया तुम्हारी हो लम्बी उमर,
    कर रही हूँ प्रभू से यही कामना।
    लग न जाये किसी की न तुमको नजर,
    दूज के इस तिलक में यही भावना।।



    बहुत सुन्दर शास्त्री जी भैया दूज की आपको बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. शास्त्री जी भैयादूज पर आपको ढेरों शुभकामनायें....दूज पर भी कविता लिखी आपने..ये कितना सुखद सा है....

    उत्तर देंहटाएं
  4. थालियाँ रोली चन्दन की सजती रहें,

    सुख की शहनाइयाँ रोज बजती रहें,

    पूर्ण हों भाइयों की सभी साधना।

    दूज के इस तिलक में यही भावना।।

    बहुत खूब,भैया दूज की आपको बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. मयंक जी इस बहन की मंगल कामनायें भी स्वीकार करें । पूरे परिवार को मेरी बधाइ और शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. भैया दूज पर मेरी तरफ से रोली और टीका स्‍वीकार करें। इस दुनिया पर बहन और भाई का प्रेम हमेशा बना रहे। बढिया कविता के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहनों की भावनाओं को खूबसूरती से व्यक्त किया है आपने , मेरी हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  8. भाई दूज पर आपने बहुत ही सुंदर कविता लिखा है जो दिल को छू गई! आज का दिन भाई और बहन दोनों के लिए ही खास है! आपको बधाई और शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  9. शास्त्री जी, भैया दूज पर आपको ढेरों शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  10. waah waah.........bahut sundar kavita likhi hai shastri ji.
    bhaidooj ki dheron badhaiyan.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर कविता भैया दूज पर, आप सब को बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. ROSHNI SE BHARE DEEP JALTE RAHEN!
    AAP YOON HEE SHABDON KEE DEEPAK JALATE RAHEN! MAIN AAPKE SUNDAR TIPPANIYON KE LIYE AAPKO DHANYAWAD!

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर रचना शास्त्री जी ......... आपको दूज की बहुत बहुत बधाई ...........

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत खूब भाई बहन के प्यार से लबालब भरी रचना.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails