"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 20 मार्च 2015

"नूतनसम्वत्सर आया है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

फिर से उपवन के सुमनों में
देखो यौवन मुस्काया है।
उपहार हमें कुछ देने को,
नूतन सम्वत्सर आया है।।

उजली-उजली ले धूप सुखद,
फिर सुख का सूरज सरसेगा,
चौमासे में बादल आकर,
फिर उमड़-घुमड़ कर बरसेगा,
फिर नई ऊर्जा देने को,
नूतन सम्वत्सर आया है।।

क्रिसमस-दीवाली-ईद,
दिलों में खुशियाँ लेकर आयेगी,
भूले-बिछुड़ों को अपनों से,
आ कर फिर गले मिलायेगी,
प्रगति के खुलते द्वार लिए,
नूतन सम्वत्सर आया है।।

पागलपन का उन्माद न हो,
हो और न कोई बँटवारा,
शस्त्रों की भूख मिटे मन से,
फैले जग में भाईचारा,
भू का अभिनव शृंगार लिए,
नूतन सम्वत्सर आया है।।

शिक्षा में हो विज्ञान भरा,
गुरुओं का आदर-मान रहे,
प्राचीन धरोहर बनी रहे,
मर्यादा का भी ध्यान रहे,
नवल-अमल सुविचार लिए,
नूतन सम्वत्सर आया है।।

शासक अपने खुद्दार बनें,
गद्दार न गद्दी को पाये,
सारे जग में सबसे अच्छा,
गणतन्त्र हमारा कहलाए,
झंकृत वीणा के तार लिए,
नूतन सम्वत्सर आया है।।

5 टिप्‍पणियां:

  1. apki rachna bhut sundar hai sastri ji
    मै मंगल हूँ वृश्चिक राशि में वर्ष भर रहूंगा |
    राजा होगा शनि मगल मंत्री बनकर गहूँगा ||
    संवत दोहजार बहत्तर का सुनो नामकरण ,
    'कीलक' नामक नाम हिन्दी वर्ष कहलाएगा||
    भारत पहुंचा मंगल के दरपर लेकर तिरंगा |
    मंगल वारह राशियोंमें अपनी कीर्ति सुनाएगा||
    यूं तो होगा टकराव जहाँ-तहाँ राजा- मंत्री का ,
    इसका सगरों वारहो राशियों पर असर डालेगा ||
    अब तलक राजा रहे चंद्रमा वह तीन पद धारण करेगा|
    कारक होंगे नीतियों में सुधार जल संसाधन मंत्री और ,
    वन एवं पर्यावरण भार ग्रह और संयोग मंत्रालय होगा,
    जल नीतियों में हो सकता है आमूल चूल परिवर्तन ,
    करेगा भंडारण एवं जल श्रोत का पुनरुद्धार
    राजा होगा शनि मगल मंत्री बनकर गहूँगा ||
    नव सम्वतसर खुशाली लाएगा,
    व्यापारिक प्रगति उन्नति के साथ आएगा ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना.
    नव सम्वतसर की शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज 21/मार्च/2015 को आपकी पोस्ट का लिंक है http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर रचना। आपको सपरि‍वार नूतनसम्वत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails