"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 16 मार्च 2013

"दोहे-करो मेल की बात" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

होली देने आ रही, हमको ये उपहार।
अच्छाई की जीत है, बुराइयों की हार।१।
 
महँगाई की मार से, लोग हुए लाचार।
पापड़-गुझिया क्या तलेंबोझिल हैं त्यौहार।२।
 
अब होली के पर्व के, फीके सारे रंग।
प्रीत-रीत गायब हुई, केवल है हुड़दंग।३।
 
काले-पीले पेण्ट को,  दिया रंग का नाम।
क्यों होली के नाम को, करते हो बदनाम।४।
 
हँसी-ठिठोली को करो, मर्यादा के साथ।
इस पावन त्यौहार में, करो मेल की बात।५। 

19 टिप्‍पणियां:

  1. होली की महक आने लगी है, धीरे धीरे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. sir ji, holi ka sriganesh kar hi diya,sundar aur swadist gujhiye
    videshi atithio ke sath, sundar

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज्यों ज्यों होली नजदीक आ रही है त्यों त्यों रंगों का मेल होता जा रहा है !!
    आभार आदरणीय !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर रचना -
    आभार गुरुवर-

    उत्तर देंहटाएं
  5. होली पर बहुत ही सार्थक दोहे,सादर आभार आदरणीय.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सार्थक दोहे गुरूजी! इस होली पर आपका आशीर्वाद प्राप्त हो जाए समझिए मेरी होली सार्थक हो गयी।
    सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप की ये सुंदर रचना शुकरवार यानी 22-03-2013 की नई पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है...
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाएं।
    आप के सुझावों का स्वागत है। आप से मेरा निवेदन है कि आप भी इस हलचल में आकर इसकी शोभा बढ़ाएं...
    सूचनार्थ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. हँसी-ठिठोली को करो, मर्यादा के साथ।
    इस पावन त्यौहार में, करो मेल की बात।५।
    सार्थक संदेश देती सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (17-03-2013) के चर्चा मंच 1186 पर भी होगी. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  10. समय में चल रहे होली के स्वरूप का स्पष्ट चित्रण किया है , अब पर्व ही अपने मौलिक स्वरूप को खोते चले जा रहे हैं बल्कि होली को तो लोग लेने तक के लिए प्रयोग कर लेते है .

    उत्तर देंहटाएं
  11. होली आ रही है आपने बहुत ही सुंदर चित्रण किया आधुनिक होली का चित्रों सहित
    गुज़ारिश : ''..होली है ..''

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. हर त्यौहार में मर्यादा का पालन करना बहुत जरुरी है
    सार्थक संदेश देती रचना
    latest postऋण उतार!

    उत्तर देंहटाएं
  14. सौद्देश्य दोहे भाव सौन्दर्य लिए .

    उत्तर देंहटाएं
  15. होली पर्व पर सार्थक संदेश देते सुंदर दोहे....

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails