"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 20 जनवरी 2014

"सर्दी से आराम मिला है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


खुलकर फिर से घाम खिला है।
सर्दी से आराम मिला है।।

बादल-बदली नहीं गगन में,
धूप गुनगुनी है आँगन में,
चिड़िया निकलीं चुगने दाने,
मज़दूरों को काम मिला है।
सर्दी से आराम मिला है।।

ठिठुरन भागी, कुहरा भागा,
आसमान में सूरज जागा,
बहुत दिनों के बाद आज फिर,
तन को सुख का धाम मिला है।
सर्दी से आराम मिला है।।

थोड़ा सा दिनमान बढ़ा है,
यौवन पर उन्माद चढ़ा है,
सम्बन्धों के अनुबन्धों को,
मौसम ललित-ललाम मिला है।
सर्दी से आराम मिला है।।

14 टिप्‍पणियां:

  1. लेकिन आज भी बहुत ठंड है ....ना धूप, ना खिला सा दिन मिला

    उत्तर देंहटाएं
  2. मोसम के अनुरूप कविता .... गुनगुनी धूप में . ..खिला -२ दिन ....सुंदर ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. ठण्ड में आँगन में गुनगुनी धूप का क्या कहने!
    बहुत सुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई हो...यहाँ प्लेन में तो ठण्ड का कहर जारी है...

    उत्तर देंहटाएं
  5. aajkal to dhoop se hi aaram mil raha hai ..sardi ne to dam nikal diya hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सर्दियों के मौसम में गुनगुनी धुप का आनंद ही कुछ और है.
    बहुत सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब पर यहाँ बर्फबारी के बाद देर से आयी बिजली कोई काम नहीं हुआ है :(

    उत्तर देंहटाएं
  8. सर्दियों के मौसम में हल्की धुप कि तो बात ही अलग है
    बहुत सुन्दर रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. अभी भी बहुत ठण्ड है ..थोडा राहत जरुर है ! कविता अच्छी है

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुबह - सुबह की की बात निराली
    रखी बगल में चाय की प्याली
    अच्छी इक कविता पढ़ने का मुझको यह ईनाम मिला है ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. कभी कंपन लगती थी, आज गुनगुनी लगती है धूप।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सर्दी की बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति,धन्यबाद।

    कोहरा पहने ऋतु चढ़ी मौसम का दरबार
    नया साल कहने लगा आदाब'र्ज सरकार

    उत्तर देंहटाएं
  13. sardi se aisa hi aaram jald milega ki aas jaga di is rachna ne ..sundar abhivyakti ..

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप की इस कुनकुनी कविता ने ठिठुरती ठंड में राहत दे दी है,धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails