"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 4 सितंबर 2013

"शिक्षक का सम्मान" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

गुरु की महिमा का करें, कैसे शब्द बखान।
जग में मिलता है नहीं, बिना गुरू के ज्ञान।।

अन्तस को दे रौशनी, गुरू ज्योति का पुंज।
गुरु के शुभ आशीष से, सुरभित होय निकुंज।।

चला रहे अनपढ़ जहाँ, शिक्षा की दूकान।
अब कैसे मिल पायेगा, अज्ञानी से ज्ञान।।

सतगुरु ही तो शिष्य का, करता है कल्याण।
गुरू बिना होता नहीं, जीवन का उत्थान।।

संस्कार देता गुरू, पाता सिख अमिताभ।
बिना दीक्षा के नहीं, शिक्षा का कुछ लाभ।।

एक दिवस ही क्यों करें, शिक्षक का सम्मान।
प्रतिदिन करना चाहिए, अपने गुरु का मान।।

20 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति-
    गुरुवर नमन-

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर


    1. गुरुवर करूँ प्रणाम मैं, रविकर मेरो नाम |
      पाया अक्षर ज्ञान है, पाया ज्ञान तमाम |

      पाया ज्ञान तमाम, निपट अज्ञानी लेकिन |
      बहियाँ मेरी थाम, अनाड़ी हूँ तेरे बिन |

      सतत मिले आशीष, पुन: आया हूँ दरपर |
      करिए शुभ कल्याण, शिष्य सच्चा हूँ गुरुवर -

      हटाएं
  2. शिक्षा दिवस की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. शिक्षक दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर प्रस्तुति , शिक्षक दिवस के अवसर पर शत- शत अभिनन्दन

    उत्तर देंहटाएं
  6. शिक्षक आज भी हैं सम्मान पा रहे
    पर वो नहीं जो जान लगा कर हैं पढा़ रहे
    बद्ल रहा है परिदृष्य हैं हम कहाँ जा रहे
    राधाकृष्णनजी खुश हैं ना हम हर साल
    इसी दिन आपकी फोटो हैं यहा लगा रहे !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिलकुल सही कहा, गुरु का सम्मान रोज होना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 05-09-2013 के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक दिवस ही क्यों करें, शिक्षक का सम्मान।
    प्रतिदिन करना चाहिए, अपने गुरु का मान।।

    शिक्षक दिवस पर बहुत सुंदर कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. कल की बुलेटिन फटफटिया …. ब्लॉग बुलेटिन में आपकी इस पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  11. naman.......
    शिक्षक दिवस की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. गुरु का मान प्रतिदिन हो , सही सीख !
    शिक्षक दिवस की बहुत शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  13. uttam rachna .. sach kaha guru ke bina gyaan nhi par moujuda halat me guru kevl naam ke guru rah gaye ,, or shishyo ko to sada hi guru se age nikale ki hod rahti hai ..naman hai apki lekhni ko ..
    गुरु सुनार
    तपा गला के गढ़े
    कुंदन हार



    गिर रहा है
    नैतिक मूल्य संग
    शिक्षा का ग्राफ

    उत्तर देंहटाएं
  14. uttam rachna .. sach kaha guru ke bina gyaan nhi par moujuda halat me guru kevl naam ke guru rah gaye ,, or shishyo ko to sada hi guru se age nikale ki hod rahti hai ..naman hai apki lekhni ko ..
    गुरु सुनार
    तपा गला के गढ़े
    कुंदन हार



    गिर रहा है
    नैतिक मूल्य संग
    शिक्षा का ग्राफ

    उत्तर देंहटाएं
  15. uttam rachna .. sach kaha guru ke bina gyaan nhi par moujuda halat me guru kevl naam ke guru rah gaye ,, or shishyo ko to sada hi guru se age nikale ki hod rahti hai ..naman hai apki lekhni ko ..
    गुरु सुनार
    तपा गला के गढ़े
    कुंदन हार



    गिर रहा है
    नैतिक मूल्य संग
    शिक्षा का ग्राफ

    उत्तर देंहटाएं
  16. गुरु को समझने और उन्हें सम्मान देने के साथ ही साथ
    जीवन को सही और सुचारू जीने की सार्थक सीख देती
    उत्कृष्ट प्रस्तुति----
    साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails