"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 29 जुलाई 2014

" दुखद समाचार" मेरे पिताश्री श्रद्धेय घासीराम आर्य जी का देहावसान

बहुत दुःख के साथ सूचित किया जाता है कि
91 वर्षीय मेरे पिताश्री
श्रद्धेय घासीराम आर्य जी का
देहावसान आज दिनांक 29-07-2014 को
अभी प्रातः 5 बजे हो गया है।
अन्तिम संस्कार आज ही सायं 5 बजे
स्थानीय मुक्ति धाम खटीमा में किया जायेगा।

13 टिप्‍पणियां:

  1. भाई जी

    हम सह-परिवार
    इस दारुण दुःख की बेला में
    आपके साथ हैं
    सहभागी है
    ईश्वर दिवंगत आत्मा
    को सद्गति प्रदान करे

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिवंगत आत्मा को विनम्र श्रद्धांजलि !

    उत्तर देंहटाएं
  3. diwangat aatma ko shraddhanjli !! saadar naman !! parmatma unhe apne charno main sthan de !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दुःखद समाचार मिला...प्रभु से दिवंगत आत्मा की शांति के लिए कामनाएं और परिवार को इस हानि को वहन कर सकने शक्ति देने की प्रार्थना...

    उत्तर देंहटाएं
  5. दुःखद समाचार,ईश्वर दिवंगत आत्मा को सद्गति प्रदान करे,विनम्र श्रद्धांजलि

    उत्तर देंहटाएं
  6. साया बापू का उठा, *रूप-चन्द ग़मगीन ।
    हैं अर्पित श्रद्धा-सुमन, आत्मा स्वर्गासीन ।

    आत्मा स्वर्गासीन, शान्ति से वहाँ विराजे ।
    सहे दर्द परिवार, आज पाये जो ताजे ।

    कह रविकर कविराय, पिता ने सब कुछ पाया ।
    सदा रहें वे साथ, मात्र यह बदन नसाया ॥

    उत्तर देंहटाएं
  7. दुःखद समाचार है...
    ईश्वर दिवंगत आत्मा की शांति प्रदान करें ..
    ईश्वर आपको सपरिवार इस दुःख को सहने की असीम शक्ति दें. यही प्रार्थना करते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. दु:खद समाचार, ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे और आपसबको दु:ख सहने कि शक्ति दें ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति दें व आपको शक्ति,इस दुखः को वहन करने के लिये.

      हटाएं
  9. दिवंगत आत्मा को विनम्र श्रद्धांजलि !

    उत्तर देंहटाएं
  10. देहान्त (देह का अंत हुआ है ,दैहिक संबंध का अंत हुआ है )सार्वजनीन चेतना का नहीं। यूनिवर्सल कॉन्शियसनेस बानी हुई है बनी रहेगी।

    मैं (सेल्फ )अमर हूँ ,असीम ज्ञान हूँ असीम आनंद हूँ। सच्चिदानंद हूँ। अहम ब्रह्मास्मि।

    अस्र्ति भाति प्रियं नामम रूपम

    श्रद्धांजलि पिता श्री को।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails