"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 12 अगस्त 2009

‘‘तो मिलने श्याम आयेंगे’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


स्वयं मिट जायेगी दूरी, अगर है कामना सच्ची।
मिलेगी प्यार की नेमत, अगर है भावना अच्छी।।

जलेंगे दीप खुशियों के, अगर हो स्नेह की बाती।
बनेंगे गैर भी अपने, अगर हो नेह की पाती।।

इरादे नेक होंगे तो, समन्दर थाह दे देंगे।
अगर मजबूत जज्बा है, सिकन्दर राह दे देंगे।।

अगर तुलसी सी भक्ति है, तो मिलने राम आयेंगे।
जो है मीरा सी आसक्ति, तो मिलने श्याम आयेंगे।।

19 टिप्‍पणियां:

  1. अगर तुलसी सी भक्ति है, तो मिलने राम आयेंगे।
    जो है मीरा सी आसक्ति, तो मिलने श्याम आयेंगे।।
    waah behad sunder,mann bhakti se vibhor ho gaya. kanha ji ke janamdin ki pehle se hi badhai de dete hai saare parivaar ko.

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह वाह शाष्त्री जी आज तो बहुत गजब की बात कही जी.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह बहुत बढ़िया और ख़ूबसूरत रचना! बहत अच्छा लगा!

    जवाब देंहटाएं
  4. गर मीरा सी भक्ति हो तो मिलने श्याम आयेंगे..बहुत सुन्दर रचना ..!!

    जवाब देंहटाएं
  5. अगर तुलसी सी भक्ति है, तो मिलने राम आयेंगे।
    जो है मीरा सी आसक्ति, तो मिलने श्याम आयेंगे।।

    अत्यन्त भावपूर्ण अभिव्यक्ति। साधू!

    जवाब देंहटाएं
  6. अगर तुलसी सी भक्ति है तो मिलने राम आयेंगे
    अगर मीरा ------
    यूँ तो सारी रचना लाजवाब है मगर उपर वाल्र्र अभिव्यक्ति बहुत अच्छी लगी बधाई

    जवाब देंहटाएं
  7. अगर तुलसी सी भक्ति है, तो मिलने राम आयेंगे।
    जो है मीरा सी आसक्ति, तो मिलने श्याम आयेंगे।।

    atisundar rachna ke liye dil se badhai!

    जवाब देंहटाएं
  8. waah waah..........bahut hi sundar rachna....bhakti ras mein doobi huyi.

    ek baar neh lagakar to dekho
    use apna banakar to dekho
    phir to bin bulaye bhi
    tumhare ghar shyam aayenge

    जवाब देंहटाएं
  9. बेहतरीन रचना है बहुत पसंद आयी

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर रचना,बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  11. अगर तुलसी सी भक्ति है, तो मिलने राम आयेंगे।
    जो है मीरा सी आसक्ति, तो मिलने श्याम आयेंगे।।

    IN DO PANKTIYON MEIN POORA NICHOD HAI JEEVAN KAA...SHAASTRI JI ......... MERA CHARAN SPARSH HAI AAPKO

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत ही सुंदर रचना..मन मोह लिया इसने..एक एक पंक्ति लाजबाब है.

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर .. जन्‍माष्‍टमी की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत ही सुन्दर रचना,जन्‍माष्‍टमी की बहुत बहुत बधाई .

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails