"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 21 अगस्त 2009

‘क्षणिका’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


कल तक
हनुमान कहाता था,
संकट-मोचन
कहलाता था,
अब रावण मुझे बनाया है,
तो युद्ध करो!
मैं भी देखता हूँ,
बिना हनुमान के,
श्री राम की
जय कौन बोलेगा?
विदेशों में
आतंकियों से
समझौता करने
कौन जायेगा?

17 टिप्‍पणियां:

  1. अब तो राम
    अपनी जय
    बोल लेंगे
    खुद ही।

    खोलेंगे अपना ब्‍लॉग
    बनेंगे फोलोअर खूब सारे
    जय बोलेंगे

    या पहन कर नकाब
    ले आयेंगे जनाब
    जय बोलेंगे जो जनाब।

    जवाब देंहटाएं
  2. मयंक जी माफी चहुंगा लेकिन समझ नही पाया, आप कहना क्या चाहते है।

    जवाब देंहटाएं
  3. मिथिलेश जी ,
    डॉक्टर साब जसवंत सिंह जी के बारे में कहे रहे है !
    वैसे मानेगे न क्या खूब कहे रहे है !
    लगे रहिये ,लगे रहिये !
    हमको भी साथ लिए रहिये , लिए रहिये !

    जवाब देंहटाएं
  4. ये तो जसवंत सिंह जी की कहानी लगती है...पर है सुंदर क्षणिका

    जवाब देंहटाएं
  5. मयंकजी,

    आपका कहना है तो ठीक ही होगा,

    लेकिन मेरी समझ में ये क्षणिका न हो कर

    कविता ही है

    और कविता अच्छी है..............बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  6. अलबेला जी , आप को हिन्दी में टिप्पणी देते देख ख़ुशी हुयी | बहुत बहुत बधाई |

    जवाब देंहटाएं
  7. अब तो रावण होना ही सम्मान की बात हो गई है.

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर कविता! मुझे तो कविता का नाम "क्षणिका" बेहद पसंद आया!

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर क्षणिका बधाई और अब तो आपकी रचनायें भाभी जी के स्वर मे सुनेंगे तो और भी बडिया लगेगा आभार्

    जवाब देंहटाएं
  10. bilkul sahi likha hai ........lajawaab.......yahan matlab ke liye hanuman banaye jate hain aur matlab ke liye hi ravan.........insaan kisi ravan se kam hai kya.

    जवाब देंहटाएं
  11. bilkul sahi likha hai ........lajawaab.......yahan matlab ke liye hanuman banaye jate hain aur matlab ke liye hi ravan.........insaan kisi ravan se kam hai kya.

    जवाब देंहटाएं
  12. अब रावण की उपाधि मिलते देर ही कितनी लगती है...राजनैतिक गलियारे मे तो एक कदम विपरीत पडा नहीं कि बस....सुन्दर रचना.

    जवाब देंहटाएं
  13. ्रचना ही वो है जिसे पढ कर पाठक को सोचना पडे बहुत खूब कहीं पे निगहें कहीं पे निशाना साधा है बधाई

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails