"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 4 नवंबर 2010

“वीणापाणि का आराधन करते विरले हैं।” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

555गहन अमावस में प्रकाश से गेह खिले हैं।
त्याग-तपस्या की बाती को स्नेह मिले हैं।

जगमग सजी दिवाली हर घर और आँगन में,
चमक रहीं है फुलझड़ियाँ सी  नीलगगन में,
तम हरने को नन्हे-नन्हे दिये जले हैं।

आज गणपति और लक्ष्मी का अभिनन्दन होता है,
जोत जलाकर दोनों का ही पूजन-वन्दन होता है, 
मईया माया दो! के उच्चारण  निकले हैं। 

धन-दौलत की चकाचौंध ने मेधा को बिसराया है,
नैतिकता को तजकर जग में पैसा खूब कमाया है,
वीणापाणि का आराधन करते विरले हैं।

22 टिप्‍पणियां:

  1. वाह क्या बात है .... बेहद उम्दा रचना !

    आपको और आपके परिवार में सभी को दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ! !

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीवाली के शुभ अवसर पर हार्दिक ढेरो शुभकामनाये और बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद उम्दा रचना !

    आपको और आपके परिवार में सभी को दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह! बेहद उम्दा संदेश देती रचना।
    दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुभोत्सव की आपको भी शुभकामनाए ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर - उम्दा रचना और रंग समायोजन और देवी माँ कि तस्वीर भी बहुत सुन्दर .. धन्यवाद इस सुन्दर रचना के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक जी
    नमस्कार !

    आपकी रचनाएं सदैव ही प्रभावित करती हैं आज भी मनन को प्रेरित करने वाली है ।
    अच्छी श्रेष्ठ कविता के लिए आभार !

    आपको और परिवारजनों को
    दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान !
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा , बढ़े आपका मान !!



    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. वीणापाणि का आराधन करने वाले विरले हैं। सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  10. उम्दा रचना, दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  11. उमदा रचना। आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. उम्दा रचना .....दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामाएं

    उत्तर देंहटाएं
  14. सरस्वती की अराधना वाकई विरले ही करते हैं ...सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  15. वीणापाणि का आराधन करते विरले हैं
    वाकई..

    उत्तर देंहटाएं
  16. sundar rachna!
    sach hai veenapani ke aaradhak birle hain, lekin wahi sarvatra pujya bhi hain!!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  18. कलम से जुड़े लोग कैसे भूल सकते हैं ..वीणा पाणी को , वही प्रेरणा के रूप में आशीर्वाद बरसाती हैं , आप तो कंप्यूटर की तरह कवितायें लिखते हैं ..दीपावली बहुत बहुत मुबारक हो .

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपको सपरिवार दिपोत्सव की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  20. दीपावली की ढेर सारी शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails