"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 17 नवंबर 2010

"चार दिनों में..." (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")




युग के साथ-साथ, सारे हथियार बदल जाते हैं।

नौका खेवन वाले, खेवनहार बदल जाते हैं।


प्यार-मुहब्बत के वादे, सब नही निभा पाते हैं,

नीति-रीति के मानदण्ड, व्यवहार बदल जाते हैं।


कंगाली में आटा गीला’, भूख बहुत लगती है,

जीवन यापन करने के, आधार बदल जाते हैं।


जप-तप, ध्यान-योग, केवल, टीवी, सीडी. करते हैं,

पुरुष और महिलाओं के, संसार बदल जाते हैं।


क्षमा, सरलता, धर्म-कर्म ही सच्चे आभूषण हैं,

आपा-धापी में निष्ठा के, तार बदल जाते हैं।


फैशन की अंधी दुनिया ने, नंगापन अपनाया,

बेशर्मी की गफलत में, शृंगार बदल जाते हैं।


माता-पिता तरसते रहते, अपनापन पाने को,

चार दिनों में बेटों के, घर-द्वार बदल जाते हैं।


भइया बने पड़ोसी, वैरी बने जिन्दगी भर को,

भाई-भाई के रिश्ते औऱ, प्यार बदल जाते हैं।

21 टिप्‍पणियां:

  1. माता-पिता तरसते रहते, अपनापन पाने को,
    चार दिनों में बेटों के, घर-द्वार बदल जाते हैं।
    क्या बात है, खुबसूरत गज़ल बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut sundar rachna!!!
    badalti maanyataon ke beech kho gayi baaton ki tees si vyakt hui hai...
    akshunn bane rahna chahiye kuch vimbon ko!!!!
    regards,

    उत्तर देंहटाएं
  3. सटीक अभिव्यक्ति ! देखिये माँ बाप ने बड़ा किया और हम यहाँ अमेरिका में और वो भारत में अकेले - सब कुछ बदल गया ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बड़ी सुन्दर और आईना दिखाती अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर और सच्ची अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  6. श्रद्धेय डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक जी
    प्रणाम !

    हमेशा की भांति श्रेष्ठ और उत्कृष्ट रचना के लिए अभार और बधाई !
    माता-पिता तरसते रहते, अपनापन पाने को,
    चार दिनों में बेटों के, घर-द्वार बदल जाते हैं।

    भइया बने पड़ोसी, बैरी बने जिन्दगी भर को,
    भाई-भाई के रिश्ते औऱ, प्यार बदल जाते हैं।

    बहुत संवेदनात्मक हैं दोनों बंध …
    पूरी रचना प्रभावित करती है ।

    शुभकामनाओं सहित
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति ....एक एक पंक्ति का जवाब नहीं आज के समय की वास्तविकता को बयान करती है .

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्यार-मुहब्बत के वादे, सब नही निभा पाते हैं,

    नीति-रीति के मानदण्ड, व्यवहार बदल जाते हैं।

    ----

    So true ! It's not easy for everyone to keep his promises.

    .

    उत्तर देंहटाएं
  9. मान्यवर
    नमस्कार
    अच्छी रचना
    मेरे बधाई स्वीकारें

    साभार
    अवनीश सिंह चौहान
    पूर्वाभास http://poorvabhas.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. संबंधों के ताने बाने को आज के परिपेक्ष में संज्ञा देती बेहतरीन रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्षमा, सरलता, धर्म-कर्म ही सच्चे आभूषण हैं,
    आपा-धापी में निष्ठा के, तार बदल जातेहैं।

    माता-पिता तरसते रहते, अपनापन पाने को,
    चार दिनों में बेटों के, घर-द्वार बदल जाते हैं।
    वाह मंयक जी हर पँक्ति आज के बदलाव को चिन्हित करती हुयी
    बधाई इस लाजवाब रचना के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्षमा, सरलता, धर्म-कर्म ही सच्चे आभूषण हैं,
    आपा-धापी में निष्ठा के, तार बदल जाते हैं।
    माता-पिता तरसते रहते, अपनापन पाने को,
    चार दिनों में बेटों के, घर-द्वार बदल जाते हैं।

    भइया बने पड़ोसी, वैरी बने जिन्दगी भर को,
    भाई-भाई के रिश्ते औऱ, प्यार बदल जाते हैं।

    पूरी रचना ही दिल मे उतरने वाली…………बेहद खूबसूरत प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  13. कंगाली में आटा गीला’, भूख बहुत लगती है,

    जीवन यापन करने के, आधार बदल जाते हैं।

    मयंक जी इस बहुत सुंदर रचना के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर रचना, एक सुन्दर सन्देश के साथ शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  15. माता-पिता तरसते रहते, अपनापन पाने को,
    चार दिनों में बेटों के, घर-द्वार बदल जाते हैं।

    बहुत ही गहन भाव लिये हुये सुन्‍दर पंक्तियां ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. sundar rachna.. aur tasweer bhi achhi hai.... aur aik haqiqat hai jis kaa ainaa dikhati hai kavita ..प्यार-मुहब्बत के वादे, सब नही निभा पाते हैं,

    नीति-रीति के मानदण्ड, व्यवहार बदल जाते हैं।
    .....माता-पिता तरसते रहते, अपनापन पाने को,
    चार दिनों में बेटों के, घर-द्वार बदल जाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails