"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 18 नवंबर 2010

"लगे खाने-कमाने में" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


मुखौटे राम के पहने बसे रावण जमाने में।
लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में।।

दया के द्वार पर, बैठे हुए हैं लोभ के पहरे,
मिटी सम्वेदना सारी, मनुज के स्रोत है बहरे,
सियासत के भिखारी व्यस्त हैं कुर्सी बचाने में।
लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में।।

जो सदियों से नही सी पाये अपने चाक दामन को,
छुरा ले चल पड़े हैं हाथ वो अब काटने जन को,
वो रहते भव्य भवनों में, कभी थे जो विराने में।
लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में।।

युवक मजबूर होकर खींचते हैं रात-दिन रिक्शा,
मगर कुत्ते और बिल्ले कर रहें हैं दूध की रक्षा,
श्रमिक का हो रहा शोषण, धनिक के कारखाने में।
लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में।।

16 टिप्‍पणियां:

  1. मुखौटे राम के पहने बसे रावण जमाने में।
    लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में।।
    अरे वाह..क्या बात है शास्त्री जी. बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुखौटे राम के पहने बसे रावण जमाने में।
    लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में।।

    वाह !! शास्त्री जी ... बहुत गहरी बाते कही है आपने रचना के माध्यम से ... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सही और सटीक बात समेटे हैं पंक्तियाँ....यही हो रहा है....

    उत्तर देंहटाएं
  4. लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में।।

    सटीक रचना .. बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. श्रमिक का हो रहा शोषण, धनिक के कारखाने में।
    लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में।।
    ..सच को सुन्दर शब्दों में ढाला...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मुखौटे राम के पहने बसे रावण जमाने में।
    लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में।।

    यही तो हो रहा है……………आज के हालात का सटीक चित्रण्…………बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय रूपचंद्र शास्त्री जी बहुत ही अशक्त और लयबद्ध प्रस्तुति| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  8. meri samajh se aaj ravan itne aatmvishvas me hai ki use kisi makhaute ki aavshayakta hi nahi hai .yatharth se sakshatkaar karati gambheer rachna.aakrosh ko jagati aisi rachna jaisi ''dinkar'ji ki kavitaye karti hai kranti ka srijan.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज के समाज की सच्ची तस्वीर दिखा दी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुखौटे राम के पहने बसे रावण जमाने में।
    लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने.कमाने में।।

    बहुत तीखा कटाक्ष किया है आपने।
    ...रचना बहुत सशक्त है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मुखौटे राम के पहने बसे रावण जमाने में।
    लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने.कमाने में।।


    बहुत बेहतरीन लिखा है शास्त्री जी, 100 प्रतिशत सहमत!




    प्रेमरस.कॉम

    उत्तर देंहटाएं
  12. आज के कटु हालात का उत्तम चित्रण शाश्त्री जी

    उत्तर देंहटाएं
  13. लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में।।
    satya!!!
    sundar rachna!

    उत्तर देंहटाएं
  14. लुटेरे ओढ़ पीताम्बर लगे खाने-कमाने में
    यह इस दौर की सच्चाई का शब्दश: बयान है ।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails