"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 5 नवंबर 2010

"कैसा रहेगा -डॉ.नूतन गैरोला" (प्रस्तोता:डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

हर साल, बैकुंठ चतुर्दशी पर .. ममता के लिए तरसती खाली गोद लिए मातृत्व की चाह में, महिलाए जिनकी गोद बर्षो से खाली है...और जो समाज में अज्ञानतावश  कटु व्यंग का शिकार भी होती है... वो  महिलाये इस मंदिर में सारी रात हाथ में जलता हुवा दिया ले कर ऐसे तटस्थ मौन खड़ी रहती है की मानो कोई मूरत हो ... क्या प्रभू इनकी इच्छाये पूरी करेगा.. पुनः बैकुंठ चतुर्दशी आने वाली है ..  इनके साथ मैं भी प्रार्थनारत हूँ  ... पर चाहूंगी की अच्छा  चिकित्सीय  परामर्श भी लें .. तदानुसार इलाज भी..
kamleshvar_1_shrinagar
मंदिर है कमलेश्वर, श्रीनगर , गढ़वालkamleshvar_shrinagar
बैकुण्ठ चतुर्दशी पर
डॉ. नूतन गैरोला की प्रस्तुति

कैसा रहेगा 
तुम आकाश से उतरो 
मेरे घर मेरे आँगन में आओ .. 
कैसा  रहेगा 
तुम मेरी पलकों से उतरो 
मेरे सपनो से मेरे संसार में आओ .. 
कैसा रहेगा 
बरसो से निस्तब्ध मेरे सूने मन में 
तुम अपनी किलकारी से गीत गुनगुनाओ ... 
कैसा रहेगा 
बीते बचपन को तरसे मेरे तन में 
अपने स्पर्श स्पंदन से ममता का सुख जगाओ .. 
कैसा रहेगा 
जर्जर पड़ती मेरी बुड़ाती काया के 
कंपकपाते हाथो की ताकत तुम बन जाओ  ...
कैसा रहेगा 
तुम मेरी गोद में आओ और मैं लोरी गाऊँ 
सृष्टि के सृजन करने वाले मुझे  भी माँ कहलवाओ .. 
कैसा रहेगा  
न तडपाओ  और तुम कुछ वात्सल्य का रस घोलो   
अब ममतामयी माता की गोद में प्रभु तुम आओ  .. 
कैसा रहेगा 
Dr.nootan परिचय : डॉ.नूतन गैरोला
पेशे से स्त्रीरोग विशेषज्ञ | खुद का हॉस्पिटल | दूर दराज के गाँवों में जहां कोई सुविधा नहीं पहुँच पाती वहाँ सेवा | स्वयं के बलबूते पर स्वास्थ कैम्प और पहाड़ियों की महिलाओं जरूरतों और दुःख-दर्दों को समझना | 
अपने लेखन में भी उनकी भावनाओं को ही उजागर करने की सर्वथा कोशिश | 
खेलकूद, पहेलिया सुलझाना, निशानेबाजी, संगीत,नृत्य ,चित्रकला,वाद -विवाद और लेखन का शौक 
बचपन से रहा है | ये व्यस्तता के बावजूद भी जीवन का आनन्द ले रही हैं |

18 टिप्‍पणियां:

  1. आप सभी को खासकर इमानदार इंसान बनने के लिए संघर्षरत लोगों को दीपावली की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें....

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को दीपावली पर्व की ढेरों मंगलकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको सपरिवार दिपोत्सव की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा लिखा है. नूतन जी ने... दीप पर्व की शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  5. डा० नूतन जी का परिचय और उनकी कविता बहुत अच्छी लगी ...दीपावली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिल की गहराईयों को छूने वाली एक खूबसूरत,संवेदनशील और मर्मस्पर्शी प्रस्तुति. आभार.

    इस ज्योति पर्व का उजास
    जगमगाता रहे आप में जीवन भर
    दीपमालिका की अनगिन पांती
    आलोकित करे पथ आपका पल पल
    मंगलमय कल्याणकारी हो आगामी वर्ष
    सुख समृद्धि शांति उल्लास की
    आशीष वृष्टि करे आप पर, आपके प्रियजनों पर

    आपको सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. हार्दिक शुभकामनायें आपको। सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद उम्दा प्रस्तुति।
    दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छा लगा पढकर।

    चिरागों से चिरागों में रोशनी भर दो,
    हरेक के जीवन में हंसी-ख़ुशी भर दो।
    अबके दीवाली पर हो रौशन जहां सारा
    प्रेम-सद्भाव से सबकी ज़िन्दगी भर दो॥
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!
    सादर,
    मनोज कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी लगी ...दीपावली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर प्रस्तुरी नूतन जी ....


    ज्योति पर्व के अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपको एवं आपके परिवार को दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप सभी को दीपावली पर हार्दिक शुभकामनाएं .. धन्यवाद मेरी इस रचना को स्थान देने के लिए..

    उत्तर देंहटाएं
  15. Nutan ji, ki kavita bahut sundar hai... bahdai... Nav varsh ki bhi......

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक चाह - ममता से ओत प्रोत (सुंदर अभिव्यक्ति उन माताओ के ओर से जिन्हे आज भी इंतज़ार है अपनी कोख मे उस मातृत्व को पालने का)- हमारी शुभकामनाये उन सभी माताओ को।

    उत्तर देंहटाएं
  17. aur kal raat ko matlab 19-11-2010 bekunth chaturdashi ke avashar par kal raat yah pooja fir huvi.aur 7 din kaa mela laga huva hai.. sabhi ko mera dhanyvaad..aur shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails