"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 1 नवंबर 2010

“उन्हें अच्छा नहीं लगता!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

खुशी में दीप जलवाना, उन्हें अच्छा नहीं लगता।
गले लोगों को मिलवाना, उन्हें अच्छा नहीं लगता।।

समाहित कर लिए कुछ गुण, जिन्होंने उल्लुओं के हैं,
गगन पर सूर्य का आना, उन्हें अच्छा नहीं लगता।
जिन्हें है ताड़ का, काटों भरा ही रूप हो भाया,
उन्हें बरगद सा बन जाना, कभी अच्छा नहीं लगता।

बिखेरा है करीने से, सभी माला के मनकों को,
पिरोना एकता के सूत्र में, अच्छा नहीं लगता।

जिन्हें रांगे की चकमक ने लुभाया जिन्दगीभर है, 
दमकता सा खरा कुन्दन, उन्हें अच्छा नही लगता।

प्रशंसा खुद की करना और चमचों से घिरा रहना,
प्रभू की वन्दना गाना, उन्हें अच्छा नही लगता।

सुनाते ग़जल औरों की, वो सीना तान महफिल में,
हमारा गुनगुनाना भी,उन्हें अच्छा नहीं लगता।

हुए सब पात हैं पीले, उमर ढलने लगी है अब,
दिल-ए-नादां को समझाना, उन्हें अच्छा नहीं लगता।

29 टिप्‍पणियां:

  1. हुए सब पात हैं पीले, उमर ढलने लगी बेशक,
    दिल-ए-नादां को समझाना, उन्हें अच्छा नहीं लगता।
    वाह लाजवाब शेर। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कहीं जब दीप जलते हैं, उन्हें अच्छा नहीं लगता।
    गले जब लोग मिलते हैं, उन्हें अच्छा नहीं लगता।।
    बहुत सुंदर....

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमारा गुनगुनाना भी, उन्हें अच्छा नहीं लगता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. लड़ाया है करीने से, सभी माला के मनकों को,
    पिरोना एकता के सूत्र में, अच्छा नहीं लगता।

    बिल्कुल सही कह रहे हैं आप्…………………इन ही लोगों की वजह से आज ये हालात हैं देश के………………दर्द उभर कर आया है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. Shastri ji... aapki gazal ke aik aik mankey bahut bahye.. aur aapne uneh jis sutr me bakhoobi se piroya ..kya kahiyega .. vaah vaah.. bahut khub..

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर पंक्ति दिल के बेहद करीब सुन्‍दर शब्‍द रचना के लिये बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. दमकता सा खरा कुन्दन, उन्हें अच्छा नही लगता।
    sundar rachna!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर लिखा है , चोट खाए हुए हैं अहसास ..ये कलम बोलती है ...एक सुझाव है उल्लुओं लिखने की जगह कोई मुलायम शब्द इस्तेमाल करें , जोर का झटका धीरे से काम कर जाएगा , कलाकार को मुलायम होना चाहिए , चोट भी खाएं तो नफासत के साथ , नाजुक खयाली के साथ ...माफ़ करियेगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन की व्यथा को बहुत सुन्दर शब्द दिए हैं ...आज कहाँ लोंग दूसरोंके बारे में सोचते हैं ? आत्ममुग्ध हो कर जीते हैं ..बहुत अच्छी रचना ..

    आपकी यह रचना कल ( मंगलवार ...२-११-१० ) के साप्ताहिक काव्य मंच पर चर्चा मंच में ली जा रही है ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. समाहित कर लिए कुछ गुण उन्होंने उल्लुओं के हैं,
    चमकता गगन पर सूरज, उन्हें अच्छा नहीं लगता ..

    मन क़ि व्यथा को शब्द दे लिए हैं ... जान डाल दी है शब्दों में .... लाजवाब शास्त्री जी ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह-वाह!वाह-वाह! वाह-वाह! वाह-वाह!
    क्या बात है! क्या बात है! क्या बात है!
    उल्लू वाला उपमा अच्छा लगा, इसका मतलब ये नहीं कि और सब अच्छा नहीं लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर और नवीन उपमा वाली कविता.. मन मुग्ध हो गया

    उत्तर देंहटाएं
  13. शास्त्री जी आप की रचना हमेशा शिक्षा से भरपुर होती हे पढ कर मन शांत हो जाता हे, इस सुंदर रचना के लिये आप का धन्यवाद.

    जिन्हें है ताड़ का काटों भरा ही रूप हो भाया,
    उन्हें बरगद सा बन जाना, कभी अच्छा नहीं लगता
    वाह बहुत गहरे भाव

    उत्तर देंहटाएं
  14. दिवाली के पवन पर्व पर बेहतरीन रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  15. दिवाली के पर्व पर बेहतरीन रचना
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. कमाल कर दिया शास्त्री जी ,
    शायद पहली बार आपकी कविता पढ़ रहा हूँ ! सरल भाषा में इन लोगों का बड़ा अच्छा परिचय दिया है ! काश इन लोगों को कुछ अपनी असलियत का अहसास हो !

    उत्तर देंहटाएं
  17. लाजवाब रचना. बस इतना पता नहीं चल रहा इस रचना का नायक कौन है ? :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. आ.शास्त्री जी ,
    आज के जीवन की वास्तविकता का बहुत सुन्दर निरूपण है.सत्य और काव्य-सौन्दर्य का दुर्लभ संयोग इस रचना में .
    दीपावली हेतु मंगल-कामनाएँ स्वीकार करें !
    (आपने चर्चामंच पर स्थान दे कर मेरी कविता को महत्व दिया- मैं उपकृत हूँ .)

    उत्तर देंहटाएं
  19. अपने परिवेश में मौजूद अंतर्विरोधों से जूझते संवेदनशील मन की अंतर्व्यथा के समंदर में छिपे बेहद गहन अर्थों को समेटती एक खूबसूरत और भाव प्रवण रचना. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  20. जिन्हें ये बाते अच्छी नहीं लगती, वो मुझे अच्छा नहीं लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  21. "हुए सब पात पीले उम्र ढलने लगी है ,
    दिले नादान को समझाना उन्हें अच्छा नहीं लगता "
    बहुत भाव पूर्ण अभिव्यक्ति |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह वाह!! माननीय..बहुत बेहतरीन!!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails