"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 8 दिसंबर 2011

"आभासी संसार" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


देखो कितना भिन्न है, आभासी संसार।
शब्दों से लड़ते रहो, लेकर क़लम-कटार।।

ज़ालजगत पर हो रही, चिट्ठों की भरमार।
गीत, कहानी-हास्य की, महिमा अपरम्पार।।

पण्डे-जोशी को नहीं, खोज रहा यजमान।
जालजगत पर हो रहा, ग्रह-नक्षत्र मिलान।।

नवयुग में सबसे बड़ा, ज्ञानी अन्तर्जाल।
इसकी झोली में भरा, सभी तरह का माल।।

स्वाभिमान के साथ में, रहो सदा आनन्द।
अपने बूते पर लिखो, सभी विधा निर्द्वन्द।।

27 टिप्‍पणियां:

  1. महिमा अन्तर्जाल की बांचा जी! पुरजोर।
    ऐसे सुन्दर जाल में फँसै न एकौ चोर॥

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक नया संसार है, सबका अपना ठौर,
    बैठे बैठे चल रहा, सबके मन का दौर।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सटीक लिखी है बात उन्होंने एक लेखक बतौर,

    शास्त्री जी की बात पर सभी फरमाइयेगा गौर !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बात आप साँची कहें अच्छा है ये मंच,
    अपने दिल की बात को कह सकते हें लोग,
    गहन विषय भी सुगम बन चुके पल भर में,
    सुलझ गयीं हें गुत्थियाँ कह सकते हें लोग.
    शास्त्री जी, अन्तर्जाल के दोहे बहुत सार्थक वर्णन कर रहे हें और साथ ही जीवन को एक नई दिशा भी दे रहे हें. आभासी दुनियाँ ने अकेले इंसान को एक अकेलेपन के अहसास से बचा लिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. yahi to hai antarjaal ki mahanta sahi varnan kiya hai dohon ke maadhyam se.bahut achche dohe.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपने बूते पर लिखो, सभी विधा निर्दवन्द।।

    satya likha hai .aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  7. sach bat ko badi khubsurti se shabd men pirodiaya hai aapne ...http://mhare-anubhav.blogspot.com/ iske saath-saath naye blog aapki pasand par bhi aapka svagat hai samay mile to zarur aaiyegaa meri post par

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह वाह वाह बहुत ही गज़ब की प्रस्तुति है………जय हो अन्तरजाल्।

    उत्तर देंहटाएं
  9. समेट ली सारी गाथा आपने इस प्रस्तुति में!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आजकल आप बहुत बढ़िया दोहे लिख रहे हैं!
    --
    लगता है आपकी दोहावली भी आनेवाली है!

    उत्तर देंहटाएं
  11. जय हो अन्तरजाल!
    आज सायं 6-31 पर वन्दना गुप्ता जी ने टिप्पणी भेजी। जो मेरे मेल पर तो आ गई मगर गूगल महाराज ने पोस्ट पर प्रकाशित ही नहीं की!
    --
    वन्दना rosered8flower@gmail.com द्वारा blogger.bounces.google.com
    ६:३१ अपराह्न (1 घंटे पहले)

    मुझे
    वन्दना ने आपकी पोस्ट " "आभासी संसार" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")... " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

    वाह वाह वाह बहुत ही गज़ब की प्रस्तुति है………जय हो अन्तरजाल्।

    उत्तर देंहटाएं
  12. internet ki mahanata ka bahoot khub varnan kiya hai...
    internet bhi khush ho gaya hoga...

    उत्तर देंहटाएं
  13. शास्त्री जी, आपने सुंदर किया बखान,
    इस अन्तर्जाल से मिलता सबको ज्ञान
    मिलता सबको ज्ञान,घर बैठे पा जाता
    गूगल में सर्च करो,सबकुछ मिल जाता,....
    बहुत सुंदर प्रस्तुति,....
    मेरे नये पोस्ट में आपका इंतजार है....

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर ज्ञानमय प्रस्तुति है आपकी.
    पढकर बहुत अच्छा लगा.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  15. अंतरजाल की महिमा का खूबसूरती से बखान

    उत्तर देंहटाएं
  16. नवयुग में सबसे बड़ा, ज्ञानी अन्तर्जाल।
    इसकी झोली में भरा, सभी तरह का माल।।

    हतप्रभ हूं।
    कोई विषय ऐसा है जिस पर आपने नहीं लिखा हो!

    उत्तर देंहटाएं
  17. परिवर्तन की बयार बही रही है जग में
    हो जाएँ हम तुम बही इस प्रवाह के संग में ||

    उत्तर देंहटाएं
  18. अंतर्जाल की महिमा अपरम्पार...बहुत अच्छी प्रस्तुति|

    उत्तर देंहटाएं
  19. अंतर्जाल की महिमा अपरम्पार.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत मजेदार है और नए जमाने की यह नब्ज अच्छी पकड़ी है...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails