"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 20 दिसंबर 2011

"परिवार हो गया" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

जिससे अब तक नफरत की थी,
वो ही रिश्तेदार हो गया।
नवयुग के इस नये दौर में,
वो अपना परिवार हो गया।।

परसों ही तो उसको हमने,
जली-कटी सी बात सुनाई।
उसकी सुता हमारे घर में,
आज वधू बनकर है आई।
पूरे घर को इस बिटिया से,
सबसे ज्यादा प्यार हो गया।
नवयुग के इस नये दौर में,
वो अपना परिवार हो गया।।

कुदरत के हैं खेल निराले,
खुशियाँ आई बैठे-ठाले!
जो किस्मत में लिखा हुआ है,
उसको कोई कैसे टाले!
चिंगारी अंगार बनी जब,
सिन्दूरी सिंगार हो गया।
नवयुग के इस नये दौर में,
वो अपना परिवार हो गया।।

21 टिप्‍पणियां:

  1. यही तो जीवन है.मानवीय रिश्ते बनते कितनी देर लगती है.
    बहुत सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर ...
    चर्चा मंच पर मेरे ब्लॉग की चर्चा की प्रकार होगी ,कृपया मुझे बताएं ..व आगे मैं इन चर्चाओं का अनुसरण किस प्रकार कर सकती हूँ ,मेरा मार्गदर्शन करें..आपके इ मेल पर मैंने ब्लॉग एड्रेस भेजा है..
    आभार
    ऋतू बंसल

    उत्तर देंहटाएं
  3. WHOLE UNIVERSE IS A FAMILY BUT 'we need to control our impatience & be dicisive'.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिससे अब तक नफरत की थी,
    वो ही रिश्तेदार हो गया।
    नवयुग के इस नये दौर में,
    वो अपना परिवार हो गया।।
    ..aaj ke halaton mein kuch bhi ho sakta hai... bante bidagde haalaton ka jiwant chitran dekhne ko mila..aabhar!

    उत्तर देंहटाएं
  5. संबंधों की संरचना का मूल ही है मेल-मिलाप।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुदरत के हैं खेल निराले,

    उत्तर देंहटाएं
  7. रिश्तो का सुन्दर अहसास...जो छूट नही सकता..

    उत्तर देंहटाएं
  8. कब नफ़रत प्यार मे बदल जाती है पता नही चलता यही है ज़िन्दगी…………बहुत सुन्दर उद्गार्।

    उत्तर देंहटाएं
  9. meri ek rishtedari me bilkul esa hi hua hai yesa laga usi ke baare me padh rahi hoon.aajkal yesa hota hai
    bahut rochak kavita banaai hai aapne.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सबसे प्यार से बोलिये, न जाने कब कोई अपना हो जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut hi acchi rachana hai,, isi par ek kahawat yad aa gayi...
    " dil mile na mile
    hath milate chalo"
    na jane kab kisase kam pad jaye ya usase koi rishta hi ban jaye...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत अच्छी नसीहत देती कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुदर रचना
    समाज की सच्चाई को आइना दिखाने के साथ ही रास्ता भी दिखाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. रिश्तेदारों से नफरत और मुहब्बत , शिकवे शिकायत ....कभी इन रिश्तों से प्रेम तो कभी घिन ...
    इसी का नाम जीवन है !

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर प्रस्तुती ! सटीक कहा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  16. Dr. Sahab Bachcho ki Jindagi Kharab Mat Kijiye. MERE SAGE BHAI KI LADKI USKE MA BAAP KO WAPIS KAR DEEJIYE Inke saathiyo inhe samjhaiye. Inki Dharam Patni SMT. AMAR BHARTI

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर रचना.....शास्त्री जी

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails