"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 15 दिसंबर 2011

"नारी की व्यथा " (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

मैं 
धरती माँ की 
बेटी हूँ
इसीलिए तो
सीता जैसी हूँ
मैं हूँ
कान्हा की मुरलिया,
इसीलिए तो
गीता जैसी हूँ।


मैं
मन्दालसा हूँ,
जीजाबाई हूँ
मैं
पन्ना हूँ,
मीराबाई हूँ।


जी हाँ
मैं नारी हूँ,
राख में दबी हुई
चिंगारी हूँ।

मैं पुत्री हूँ,
मैं पत्नी हूँ,
किसी की जननी हूँ
किसी की भगिनी हूँ।

किन्तु
आज लोगों की सोच
कितनी गिर गई है,
मानवता
कितनी मर गई है।

दुनिया ने मुझे
अबला मान लिया है,
और केवल
भोग-विलास की
वस्तु जान लिया है!

यही तो है मेरी कहानी,
आँचल में है दूध
और ........!

26 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर कविता, नारियों ने हर युग में स्वयं को स्थापित किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. फुर्सत के दो क्षण मिले, लो मन को बहलाय |

    घूमें चर्चा मंच पर, रविकर रहा बुलाय ||

    शुक्रवारीय चर्चा-मंच

    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. नारी की आत्म -कथा पढ़ना आसान नहीं,विवेचना भी मुश्किल है / कितना धर्मान्धो ने नैतिकता का जामा उसे पहना दिया की आज उतारना कितना मुश्किल है,स्वयं अपना वजूद नारी को पहचानना होगा ...... सम-सामायिक आलेख शुक्रिया सर !

    उत्तर देंहटाएं
  4. गजब की रचना।
    बेहतरीन जज्‍बात।

    उत्तर देंहटाएं
  5. sarthak post nari ko sampoorna roop se paribhashit karte huye .

    उत्तर देंहटाएं
  6. Rajesh Kumari ने कहा…
    yahi to vidambna hai humare desh ki naariyon ki manushya ko apna mansik rtar me sudhaar karna hoga tabhi naari ki sthiti sudhregi.
    १५ दिसम्बर २०११ ६:०१ अपराह्न
    वन्दना ने कहा

    उत्तर देंहटाएं
  7. वन्दना ने कहा…
    नारी की दशा का सटीक चित्रण किया है………शानदार प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. Kailash Sharma ने कहा…
    बहुत सटीक प्रस्तुति...आभार
    १५ दिसम्बर २०११ ८:०२ अपराह्न

    उत्तर देंहटाएं
  9. Roshi ने कहा…
    nari vyatha ka sunder chitran kiya hai aapne............
    १५ दिसम्बर २०११ ११:०६ अपराह्न

    उत्तर देंहटाएं
  10. सार्थक टिपण्णी नारी पर उसके प्रति हमारे रवैये पर .सुन्दर चिंतनीय .

    उत्तर देंहटाएं
  11. सार्थक चिंतन...उत्तम रचना सर...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी अनमोल राय की अपेक्षा करती है हमारी यह पोस्ट-
    http://shalinikikalamse.blogspot.com/2011/12/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut sunder prastuti .bahut hbadhaai aapko.

    आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (२२) में शामिल की गई है /कृपया आप वहां आइये .और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आपका सहयोग हमेशा इसी तरह हमको मिलता रहे यही कामना है /लिंक है

    http://hbfint.blogspot.com/2011/12/22-ramayana.html

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails