"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 17 दिसंबर 2011

"उच्चारण भी थम जाता है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


रिश्तों-नातों को ठुकरा कर,
पंछी इक दिन उड़ जाता है।।
जब धड़कन रुकने लगती है,
उच्चारण भी थम जाता है।।

लाख लगाओ कितने पहरे,
सब सम्बन्ध धरे रह जाते।
जलप्लावन के साथ-साथ ही,
सब अनुबन्ध यहाँ बह जाते।
आवा-जाही के नियमों से,
कोई बशर न बच पाता है।
जब धड़कन रुकने लगती है,
उच्चारण भी थम जाता है।।

वक्त सदा बलवान रहा है,
रह जाते हैं कोरे वादे।
धूल-धूसरित हो जाते हैं,
सब मंसूबे और इरादे।
शव को सीढ़ी पर ले जाकर,
बेटा चिता जला आता हैं।
जब धड़कन रुकने लगती है,
उच्चारण भी थम जाता है।।

जीवन चला-चली का मेला,
थोडे ही दिन का है खेला।
कोई साथ न दे पाता है,
जाना पड़ता फ़कत अकेला।
चिड़ियाघर में आकर प्राणी,
दुनिया का मन बहलाता है।  
जब धड़कन रुकने लगती है,
उच्चारण भी थम जाता है।।

22 टिप्‍पणियां:

  1. दुनिया है, आना जाना है,
    बस सबका साथ निभाना है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब धड़कन रुकने लगती है,
    उच्चारण भी थम जाता है.....एक कडुआ सच

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह अमर सत्य जग की रीति
    पर कौन समझ इसे पाता है.
    रोते रोते ही आता है और
    रोते रोते ही चला जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन की यात्रा का अंतिम पड़ाव ... सत्य को कहती अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन का कटु पर शास्वत सत्य...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज तो अंतिम सत्य से रू-ब-रू करा रहे हैं आप!

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच तो यही है,..जीवन का अंतिम पड़ाव मृत्यु है
    ये इंसान को नहीं भूलना चाहिए,....मेरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  8. चिड़ियाघर में आकर प्राणी,
    दुनिया का मन बहलाता है।
    रिश्तों-नातों को ठुकरा कर, पंछी इक दिन उड़ जाता है।।साँसे जब पूरी हो जातीं, उच्चारण भी थम जाता है .चिठ्ठा गर एक दिन जाता है .बहुत अच्छी रचना .बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  9. शास्वत की काव्यात्मक प्रस्तुति...
    सुन्दर रचना सर..
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपने बिल्कुल सही कहा है ! सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  11. यही तो जीवन का सत्य है ।आने का पता नहीं पर जाना तो अवश्य है ।हमेशा की तरह -बेहतरीन रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. कटु सत्य है शास्त्रीजी , मगर उच्चारण को अभी लंबा सफ़र तय करना है !

    उत्तर देंहटाएं
  13. yahi jeevan ki antim sachchaai hai.sab kuch yahi dhara rah jaata hai kintu fir bhi na jaane yeh tera mera chalta rahta hai.
    bahut prabhaavshaali likha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  14. जब धड़कन रुकने लगती है,
    उच्चारण भी थम जाता है

    कटु सत्य की सहज प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails