"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 19 दिसंबर 2011

"आशा पर संसार टिका है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

 आशा पर संसार टिका है।
आशा पर ही प्यार टिका है।।

आशाएँ अंकुर उपजातीं,
आशाएँ विश्वास जगातीं,
आशा पर परिवार टिका है।
आशा पर ही प्यार टिका है।।

आशाएँ श्रमदान कराती,
पत्थर को भगवान बनाती,
आशा पर उपहार टिका है।
आशा पर ही प्यार टिका है।।

आशा यमुना, आशा गंगा,
आशाओं से चोला चंगा,
आशा पर उद्धार टिका है।
आशा पर ही प्यार टिका है।।

आशाओं में बल ही बल है,
इनसे जीवन में हलचल है.
खान-पान आहार टिका है।
आशा पर ही प्यार टिका है।।

आशाएँ हैं, तो सपने है,
सपनों में बसते अपने हैं,
आशा पर व्यवहार टिका है।
आशा पर ही प्यार टिका है।।

आशाओं के रूप बहुत हैं,
शीतल छाया धूप बहुत है,
प्रीत, रीत, मनुहार टिका है।
आशा पर ही प्यार टिका है।।

आशाएँ जब उठ जायेंगी,
खुशियाँ सारी लुट जायेंगी,
उड़नखटोला द्वार टिका है।
आशा पर ही प्यार टिका है।।

21 टिप्‍पणियां:

  1. आशाओं में बल ही बल है,
    इनसे जीवन में हलचल है.
    खान-पान आहार टिका है।
    आशा पर ही प्यार टिका है।।
    waah

    उत्तर देंहटाएं
  2. अत्यंत सरस गीत सर....
    बहुत बधाई ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. नित नए शब्द कहाँ से लाऊं आपकी रचनाओं की तारीफ के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आशा में ही जीवन है ।
    बहुत बढ़िया शास्त्री जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आशा ही जीवन में नए उत्साह का संचार करती है,
    बहुत सुंदर सरस रचना,...

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    आफिस में क्लर्क का, व्यापार में संपर्क का.
    जीवन में वर्क का, रेखाओं में कर्क का,
    कवि में बिहारी का, कथा में तिवारी का,
    सभा में दरवारी का,भोजन में तरकारी का.
    महत्व है,...
    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलिमे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है आशाओ पर सारा संसार टिका है..सार्थक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  7. ओह! अनुपम.
    आशा की यह भाषा बहुत अच्छी लगी शास्त्री जी.
    बहुत बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आशा यानि उम्‍मीद में ही दुनिया कायम है....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपसे सहमत - आशा पर संसार टिका है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. कितनी अच्छी आशावादी कविता लिखी है आपने ...मन भी आशा से भर गया ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. sach hai aasha par hi sansaar tika aasha hi karm bhaavna ko jaagrat karti hai jisse hum jeevan gati prapt karte hain.bahut achcha likha hai.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails