"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 13 दिसंबर 2011

"जीवन के दाँव-पेंच" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


जीवन के इस दाँव-पेंच में,
मैंने सब कुछ हार दिया था।
छला प्यार में उसने मुझको,
जिससे मैंने प्यार किया था।।

जब राहों पर कदम बढ़ाया,
काँटों ने उलझाया मुझको।
जब गुलशन के पास गया तो,
फूलों ने ठुकराया मुझको।
जिसको दिल की दौलत सौंपी,
उसने ही प्रतिकार लिया था।
छला प्यार में उसने मुझको,
जिससे मैंने प्यार किया था।।

संघर्षों के तूफानों ने,
जब-जब नौका को भटकाया।
तब-तब बहुत सावधानी से,
मैंने था पतवार चलाया।
डूब गया मैं तट पर आकर,
गहरा सागर पार किया था।
छला प्यार में उसने मुझको,
जिससे मैंने प्यार किया था।।

बनकर कृष्ण-कन्हैया कब से,
खोज रहा हूँ मैं राधा को।
अपनी पगडण्डी से कब से,
हटा रहा हूँ मैं बाधा को।
मोहक मुस्कानों ने लूटा,
मैंने जब मनुहार किया था।
छला प्यार में उसने मुझको,
जिससे मैंने प्यार किया था।।

27 टिप्‍पणियां:

  1. डूब गया मैं तट पर आकर,गहरा सागर पार किया था।छला प्यार में उसने मुझको,जिससे मैंने प्यार किया था।
    Bahut hee sundar shashtriji !

    उत्तर देंहटाएं
  2. छला प्यार में उसने मुझको,
    जिससे मैंने प्यार किया था।।
    छले जाने पर भी प्रेम की यात्रा तो चलती ही रहती है... जीवन की ही तरह! सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  3. संघर्षों के तूफानों ने,
    जब-जब नौका को भटकाया।
    तब-तब बहुत सावधानी से,
    मैंने था पतवार चलाया।
    डूब गया मैं तट पर आकर,
    गहरा सागर पार किया था।
    छला प्यार में उसने मुझको,
    जिससे मैंने प्यार किया था।।

    ्यही तो है जीवन का यथार्थ …………आपने बहुत खूबसूरती से इसे पिरोया है…………एक शानदार भावभीनी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन के संघर्षों में जब पतवार संभाल कर चलाई तो पार तो हो ही जाना है ... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. डूब गया में तट पर आकर
    गहरा सागर पार किया था ।
    वाह बहुत ही सुंदर मानोभावों से रची बेहतरीन रचना कभी समय मिले तो आयेगा मेरे दूसरे ब्लॉग पर अभी आपका स्वागत है http://aapki-pasand.blogspot.com/2011/12/blog-post_13.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. mohak bha bhini post.......
    sahilon par hi kashtiyan dooba karti haen .

    उत्तर देंहटाएं
  7. pratham tippadi men kuchh gadbad hogai hae sory.
    mohak bhvbhini kavita hae .
    SAHILON PAR HI TO KASHTIYAN DOOBA KARTI HAEN.

    उत्तर देंहटाएं
  8. जीवन के इस दाँवपेंच में जीना फिर भी होगा हमको।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बस किनारों ने हमको धोखा दिया सुंदर अतिसुन्दर ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. डूब गया मैं तट पर आकर,गहरा सागर पार किया था।छला प्यार में उसने मुझको,जिससे मैंने प्यार किया था।
    bahut behtreen likha hai bahut sundar.

    उत्तर देंहटाएं
  11. छला प्यार में उसने मुझको,
    जिससे मैंने प्यार किया था।।

    दुर्भाग्य से प्यार में यही तो होता है

    उत्तर देंहटाएं
  12. संघर्षों के तूफानों ने,
    जब-जब नौका को भटकाया।
    तब-तब बहुत सावधानी से,
    मैंने था पतवार चलाया।
    डूब गया मैं तट पर आकर,
    गहरा सागर पार किया था।

    वाह! सुन्दर गीत सर...
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  13. बाप रे बाप!
    आपकी कविता को लगता है भाभी जी ने नही पढा है.आपको तो क्या पहले आपकी राधा का पता ही पूछतीं.

    खैर,बहुत खूबसूरत उद्गार है आपके.
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर शब्दों से सुसज्जित जीवन की सच्चाई एवं संघर्ष को आपने बखूबी शब्दों में पिरोया है! लाजवाब प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  15. जब गुलशन के पास गया तो,
    फूलों ने ठुकराया मुझको।
    जिसको दिल की दौलत सौंपी,
    उसने ही प्रतिकार लिया था।
    बहुत सुंदर मन को छूता हुआ गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  16. जिसको दिल की दौलत सौंपी,
    उसने ही प्रतिकार लिया था।
    छला प्यार में उसने मुझको,
    जिससे मैंने प्यार किया था।।

    कुछ ऐसे ही ख़यालात मेरे भी शब्दों में ढल गए....


    गर दो दिलों में इश्क हो तो बनता है रिश्ता
    वर्ना बहुत से जिस्म बाजारों में पड़े हैं

    उत्तर देंहटाएं
  17. ''छला प्यार में उसने मुझको,
    जिससे मैंने प्यार किया था।।''

    गहरे अहसास।
    सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  18. किसी अपेक्षा से किया गया प्यार कोई व्यवसाय ही रहा होगा। व्यवसाय में घाटा-नफा होता रहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह ... आहूत ही मधुर गीत की तरह पनकी डर पंक्ति लिखी कविता ...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails