"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 11 नवंबर 2009

"सजा मौत की दे दो" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



भारत में रहकर हिन्दी से जिनको प्यार नही है।
उनको इस धरती पर रहने का अधिकार नही है।।


जितनी भी भाषा-बोली हैं, सब हमको हैं प्यारी।
लेकिन देवनागरी भाषा पर, हम सब बलिहारी।।


राज ठाकरे के गुर्गों ने, ये कैसा पथ अपनाया?
वीर-शिवाजी की सूरत में काला दाग लगाया।।


कारा में डालो "मनमोहन" इन ज़ालिम मक्कारों को।
सजा मौत की दे दो, इन भारत-माँ के गद्दारों को।।

23 टिप्‍पणियां:

  1. बेचारे मनमोहन में इतनी ताकत लगती है आपको कि वह यह कदम उठा पायेंगे .

    उत्तर देंहटाएं
  2. कारा में डालो "मनमोहन" इन ज़ालिम मक्कारों को।
    सजा मौत की दे दो, इन भारत-माँ के गद्दारों को।।

    bilkul sahi kaha aapne....


    JAI HIND
    JAI HINDI
    JAI BHARAT....

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी भावना का सम्मान है। पर मौत की सजा कुछ ज्यादा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एकदम दिल की बात कही आपने.
    जय हिंदी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. वैसे ज्ञानदत्‍त पांडेय जी की बात भी सही है !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. निर्लज्जता का काम मगर आन बान से
    खिलबाड़ कर रहे हैं, लोग संविधान से।
    जब संविधान से खिलवाड़ हो रही हो तो सज़ा जो प्रस्तावित की गई हे, कुछ क... छोड़िए यह काम भी तो उनका ही है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. कारा में डालो "मनमोहन" इन ज़ालिम मक्कारों को।
    सजा मौत की दे दो, इन भारत-माँ के गद्दारों को।
    अजी कोन सा मन मोहन बांसुरी वाला या फ़िर .....
    बहुत सुंदर लिखा आप ने

    उत्तर देंहटाएं
  8. धीरू सिंह जी!
    बंशी वाले मनमोहन में बहुत ताकत है!

    उत्तर देंहटाएं
  9. " bahut hi badhiya .ek dum sahi baat kahi hai aapne magar desh ke gaddaro ki list bahut hi badi hai ."

    " sabse ahem baat ye hai ki bicchare MANMOHAN ko itani takat kaun dega kya vo kar payenge ? kyu ki unki PARTY ko saath dene wale bhi kuch kum nahi hai ."

    " MAGAR FIR BHI AAPNE JO KAHA HAI KAASH VO HO JAYE.to DESH KA AUR HAMARA KISMAT KHUL JAYEGA ."

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  10. " haaan ye kaam BANSURIWALA manmohan hi kar sakta hai ."

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढिया. खूब फ़ैसले की दरकार की है आपने..

    उत्तर देंहटाएं
  12. कारागार में डालने से क्या होगा
    इनको तो सीधे कुत्तो के आगे डलवाना पड़ेगा
    न्याय तभी होगा ,

    उत्तर देंहटाएं
  13. मौत की सजा नहीं जी जेबकतरों को मिलती है ना 'वो' वाली ठीक रहेगी इन के लिए तो !! अरे वही गधे की पीठ पर उल्टा बैठा कर .......सर पर चौराहा बना कर ........मुह काला कर के घुमाने वाली !

    उत्तर देंहटाएं
  14. भारत में रहकर हिन्दी से जिनको प्यार नही है।
    उनको इस धरती पर रहने का अधिकार नही है।।

    बिल्कुल सही फ़रमाया आपने! मुझे अपनी राष्ट्रभाषा पर गर्व है और सभी को होना चाहिए!

    कारा में डालो "मनमोहन" इन ज़ालिम मक्कारों को।
    सजा मौत की दे दो, इन भारत-माँ के गद्दारों को।।

    वाह आपने सच्चाई को बखूबी शब्दों में पिरोया है! काश आपकी बात सच हो तो हमारा देश और उन्नति करेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत खूब, मेरे मन की बात कह डाली आपने, लेकिन करेगा कौन ? मनमोहन सिंग इज सिक !!

    उत्तर देंहटाएं
  16. अफजल को तो दे नहीं पाए, राज ठाकरे को क्‍या दे देंगे?

    उत्तर देंहटाएं
  17. भारत में रहकर हिन्दी से जिनको प्यार नही है।
    उनको इस धरती पर रहने का अधिकार नही है।

    जय हिंदी !

    उत्तर देंहटाएं
  18. कारा में डालो "मनमोहन"
    इन ज़ालिम मक्कारों को।
    सजा मौत की दे दो,
    इन भारत-माँ के गद्दारों को।।

    bahut hi sahi kaga hai aapne.

    उत्तर देंहटाएं
  19. BAHOOT ACHA LIKHA HAI ... AISE LOGON KA BAHISHKAAR HONA CHAHIYE ... INKO JITAANE WAALE LOGON KO SOCHNA CHAAHIYE KI KYA KAREN INKE BARE MEIN ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. shastri ji,
    bahut hi karari chot ki hai.............magar ye bhi utna hi bada sach hai ki jab ek aatankvadi ko yahan sazaa nhi mil pati to aur kisi saza ki to ummed hi kya karein.
    aapki aisi rachnayein dil ko choo jati hain.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails