"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 25 नवंबर 2009

"बद्-दुआएँ सर गयीं है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



कामनाओं के नगर में भावनाएँ मर गयीं हैं।
वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।।


सभ्यता सोई हुई है, नग्नता जागी हुई,
नौनिहालों ने हया और शर्म है त्यागी हुई,
चेतनाओं के उदर में जल्पनाएँ भर गयीं हैं। 
वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।।


शुष्क हैं सरिताएँ, नाले गन्दगी के बढ़ रहे, 
कैद में तम की पड़े, उजले-उजाले सड़ रहे हैं,
प्रेरणाओं की लहर में मान्यताएँ उड़ गयीं हैं।
वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।।


मन्द है मनुहार की महकी समीरण,
स्वार्थ की आँधी ने तोड़े द्वार तोरण,
प्रार्थनाओं के सफर मे बद्-दुआएँ सर  गयीं है।
वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।।

18 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अनुपम प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।।
    शास्त्री जी क्या गजब की बात कही आपने-आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब सीधा प्रहार शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वार्थ की आँधी ने तोड़े द्वार तोरण,
    प्रार्थनाओं के सफर मे बद्-दुआएँ सर गयीं है।
    रचना अच्छी लगी। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अत्यन्त सुंदर रचना! बहुत बहुत बधाई इस उम्दा रचना के लिए!

    उत्तर देंहटाएं
  6. वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।।
    बहुत सुन्दर भाव
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  7. कामनाओं के नगर में भावनाएँ मर गयीं हैं।
    वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।
    क्या बात है!!सच है आज भावनाओं और साधना की नितांत कमी हो गई है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सभ्यता सोई हुई है, नग्नता जागी हुई,
    नौनिहालों ने हया और शर्म है त्यागी हुई,
    बहुत सही लिखा आप ने शास्त्री जी, आप की कविता आज के माहोल पर बिलकुल उचित है. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. कितनी खूबसूरती से आपने जमाने के सच को उजागर किया ..एक प्रेरक कविता शब्द और विचार दोनों लाज़वाब वैसे भी शास्त्री जी आपकी रचनाओं के बारें क्या कहूँ..बेहतरीन..धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रार्थनाओं के सफर मे बद्-दुआएँ सर गयीं है।

    kya baat hai Sir ji.. bahut khub.. BAdhai ....!

    उत्तर देंहटाएं
  11. shastri ji...
    kuch nahi hai kehne ke liye in chand lafzon ke...

    "waah waah waah"

    ishwar aapko lambi aayu de aur aap aise he hum sab ko sachayi se avgat karaate rahein....

    aameen....

    badhaayee...

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन्द है मनुहार की महकी समीरण,

    स्वार्थ की आँधी ने तोड़े द्वार तोरण,

    प्रार्थनाओं के सफर मे बद्-दुआएँ सर गयीं है।
    वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।।

    wah wah ATISUNDER.

    उत्तर देंहटाएं
  13. शास्त्री जी,

    प्रेरणाओं की लहर में मान्यताएँ उड़ गयीं हैं।
    वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।।

    वाह!! कितनी सामायिक और तीक्ष्ण अभिव्यक्ति... साधू!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. शुष्क हैं सरिताएँ, नाले गन्दगी के बढ़ रहे,
    कैद में तम की पड़े, उजले-उजाले सड़ रहे हैं,
    प्रेरणाओं की लहर में मान्यताएँ उड़ गयीं हैं।
    वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।।


    ek bahut hi umda prastuti....aaj ke halat ko bayan kar diya.

    उत्तर देंहटाएं
  15. Bhai ji,
    Atiuttam. Badhai!!


    शुष्क हैं सरिताएँ, नाले गन्दगी के बढ़ रहे,
    कैद में तम की पड़े, उजले-उजाले सड़ रहे हैं,
    प्रेरणाओं की लहर में मान्यताएँ उड़ गयीं हैं।
    वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं।।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सभ्यता सोई हुई है, नग्नता जागी हुई,
    नौनिहालों ने हया और शर्म है त्यागी हुई,
    चेतनाओं के उदर में जल्पनाएँ भर गयीं हैं।
    वासनाओं की डगर में साधनाएँ डर गयीं हैं

    उम्दा रचना बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails