"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 21 नवंबर 2009

"नीड़ में ज़र तलाश करते हो!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



छल-फरेबी के हाट में जाकर,
भीड़ में नर तलाश करते हो!


ऊँचे महलों से खौफ खाते हो,
नीड़ में ज़र तलाश करते हो!


दौर-ए-मँहगाई के ज़माने में,
खीर में गुड़ तलाश करते हो!


ज़ाम दहशत के ढालने वालो,
पीड़ में सुर तलाश करते हो!




14 टिप्‍पणियां:

  1. shastri ji,
    ati uttam baat kahi hai aapne....
    bas ab toh desh ko jagne ki zarurat hai....
    badhaayee....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब शास्त्री जी !

    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. दौर-ए-मँहगाई के ज़माने में,
    खीर में गुड़ तलाश करते हो!


    ज़ाम दहशत के ढालने वालो,
    पीड़ में सुर तलाश करते हो!

    bahut hi achchi baat kahi aapne....

    in panktiyon ne dil ko chhoo liya...

    उत्तर देंहटाएं
  4. भीड़ में नर तलाश करते हो!
    कितना भी तलाश कर लें नही मिलेगा.
    बहुत सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद रोचक और मार्मिक व्यंग्य है।

    बरसात में नहा रही हैं ऊंची मुण्डेरें
    धरती के प्यासे होठ नयन देख रहा हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. "दौर-ए-मँहगाई के ज़माने में,
    खीर में गुड़ तलाश करते हो!"


    बहुत खूब.......... क्या बात कही है आपने !
    १००% सत्य वचन !

    उत्तर देंहटाएं
  7. दौर-ए-मँहगाई के ज़माने में,
    खीर में गुड़ तलाश करते हो!
    शास्त्री जी बहुत ही उचित कविता कहते हैआपआज के जमाने के हिसाब से.बहुत अच्छी लगी गुड की तरह.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. Hun un logo me hai jo dhut andere me bhi ummeed ki ek kiran talashte hai!

    उत्तर देंहटाएं
  9. दौर-ए-मँहगाई के ज़माने में,
    खीर में गुड़ तलाश करते हो!


    bahut umda likha hai shastri ji , sabhi sher uttam, badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  10. अच्छे कवियों को पढिये , उनसे परामर्श लीजिये आप भी अच्छा लिख सकेंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  11. अभी मेरे लेखन में बहुत कमियाँ हैं, स्वीकारता हूँ।
    बेनामी का आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  12. जाति, क्षेत्र, साम्प्रदायिकता का नारा देकर
    अपनी कुर्सी तलाश करते हो.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सौ फीसदी सही बात कहा है आपने! इस उम्दा रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  14. छल-फरेबी के हाट में जाकर,
    भीड़ में नर तलाश करते हो!

    bahut sundar .

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails