"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 28 नवंबर 2009

"ईदुल-जुहा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

समस्त  भाई-बहनों को
"ईदुल-जुहा" 
की 
!! मुबारकवाद !!



वतन में अमन की, जागर जगाने की जरूरत है,
जहाँ में प्यार का सागर, बहाने की जरूरत है।
मिलन मोहताज कब है,ईद,होली और क्रिसमस का-
दिलों में प्रीत की गागर, सजाने की जरूरत है।।
(चित्र गूगल सर्च से साभार)

14 टिप्‍पणियां:

  1. दिलों में प्रीत की गागर, सजाने की जरूरत है।।
    "ईदुल-जुहा" की मुबारकवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जहाँ में प्यार का सागर, बहाने की जरूरत है।
    देशवासियो को "ईदुल-जुहा" की मुबारकवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी ओर से भी बहुत बहुत बधाई..बस ये भाई लोग बकरों को न मारें तो मुझ जैसे शाकाहारी को और भी प्रसन्नता होगी..

    उत्तर देंहटाएं
  4. सभी को "ईदुल-जुहा" की मुबारकवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. शास्त्री जी , आज यह नहीं कहूँगा की बढ़िया कविता है , आज कहूंगा की बढ़िया चित्र प्रस्तुत किया अपने, इसके लिए आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. मिलन मोहताज कब है,ईद,होली और क्रिसमस का-
    दिलों में प्रीत की गागर, सजाने की जरूरत है।।
    मयंक जी कविता के माध्यम से बहुत सुन्दर संदेश दिया है बधाई। ईदुल-जुहा की मुबारकवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिलों में प्रीत की गागर, सजाने की जरूरत है।।
    bahut khub. dil se badhai Dr.shastri saheb.

    उत्तर देंहटाएं
  8. काजल कुमार:SAHEB aapke nam दिलों में प्रीत की गागर, सजाने की जरूरत है।।
    rati ratai baten bhoolna nahi chahte. puri dunia mansahari hai, aap mat mansahari banen.per dilon men jagah paida karen.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ईदुल-जुहा" की मुबारकवाद ...बढ़िया चित्र प्रस्तुत किया अपने, इसके लिए आभार !.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सभी को ईदुल-जुहा" की मुबारकवाद, ओर यह चित्र बहुत ही सुंदर लगा, लेकिन ऊर्दु मै कया लिखा है कुछ समझ नही आया, कोई बता दे तो उस का शुकरिया

    उत्तर देंहटाएं
  11. मिलन मोहताज कब है,ईद,होली और क्रिसमस का-
    दिलों में प्रीत की गागर, सजाने की जरूरत है।।
    सुंदर चित्र के साथ शानदार रचना! ईदुल-जुहा की बहुत बहुत मुबारकबाद!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails