"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 5 दिसंबर 2009

"सीख गये है कदम बढ़ाना!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


!! वैवाहिक जीवन की 36वीं वर्ष-गाँठ !!



-: कुछ-मुक्तक :-


जब करते थे नही बड़ाई,
तब होती थी बहुत लड़ाई।
प्रेम-प्रीत के घर-आँगन में,
अच्छी होती नही कड़ाई।।


जीवन का ताना और बाना,
हमको आता है  सुलझाना।
टेढ़ी-मेढ़ी पगदण्डी पर, 
सीख गये है कदम बढ़ाना।।


शान और शौकत तमीज है,
जो विपन्न है वो मरीज है।
आया है अब नया जमाना,
कुरते पर भारी कमीज है।।


चाटुकारिता एक गज़ल है,
स्वाभिमान की आँख सजल है।
सीधा-सादा भूखा मरता,
चालबाज़ हो रहा सफल है।।


सुरा-पान का पथ है ऐसा,
विष लगता है अमृत जैसा।
आय-आय जैसे भी आये,
सबसे प्यारा लगता पैसा।।


मन का कुछ आधार नही है,
ईश्वर का आकार नही है।
पथ पर जो चलता जाता है,
श्रम उसका बेकार नही है।।


तुम आये तो भार हुआ कम,
दूर हुए दुनिया के सब गम।
दिन में सूरज, चाँद रात में, 
बनकर हर लेना मन का तम।।

20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर, हार्दिक शुभकामनाये और ढेरो बधाई आप और भारती जी को !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बधाई शास्त्री जी ........ आपका व्यवाहिक जीवन शतक पूरा करे ऐसे मेरी शुभकामना है ........... सुंदर रचना के साथ शुरुआत की है आपने इस दिन की आज ...........

    उत्तर देंहटाएं
  3. वैवाहिक वर्षगांठ की हार्दिक बधाई व
    शुभकामनायें ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. शादी की सालगिरह की अनेकों शुभकामनाएं और बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. शादी की सालगिरह पर हार्दिक बधाई व शुभकामनायें ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हार्दिक बधाई और ढेरों शुभकामनाएं....शत वर्ष का साथ हो आप दोनों का.

    उत्तर देंहटाएं
  7. शादी की सालगिरह मुबारक हो

    उत्तर देंहटाएं
  8. मयंक जी,
    बधाई हो। पर बहुत कठिन है डगर इस घट की। समझने में ही आदमी क्या से क्या हो जाता है।
    अगली 10 तक, समझते-समझते, अपने भी पैंतीस साल हो जायेंगे।
    फिर एक बार आपको सपरिवार बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. शास्त्री जी- वैवाहिक वर्षगांठ की हार्दिक शुभकामनाएं,

    उत्तर देंहटाएं
  10. shastri ji aur bharti ji
    shadi ki 36 vi salgirah ki hardik badhayi.
    36.........63.........93........93..........100

    kuch yun gujre jeevan sara
    har din ho naya ujiyara
    100 vi varshgaanth tak ho
    saath tumhara

    उत्तर देंहटाएं
  11. सबसे पहले तो शादी की वर्षगाँठ की बहुत बहुत बधाई..और उसके बाद शास्त्री जी क्या कहूँ बहुत ही कमाल की रचना..चार चार लाइनों की ये पंक्तियाँ इतने बेहतरीन ढंग से पिरोया है आपने की शब्द ही नही मिलते तारीफ करने के...बहुत बढ़िया लगी आपकी कविता...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. शास्त्री जी, हार्दिक शुभकामनाये और बहुत-बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  13. शास्त्री जी आज तो बहुत सुंदर दिन आया , हम सब की तरफ़ से आप दोनो को हार्दिक शुभकामनाये और बहुत-बहुत बधाई!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर .. बहुत बहुत बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  15. शादी की सालगिरह पर हार्दिक बधाई व शुभकामनायें!


    चाटुकारिता एक गज़ल है,
    स्वाभिमान की आँख सजल है।
    सीधा-सादा भूखा मरता,
    चालबाज़ हो रहा सफल है।।

    उत्तर देंहटाएं
  16. शादी की साल गिरह पर आपको और भाभीजी को बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनायें! बहुत सुंदर लग रहे हैं आप दोनों! अच्छी तस्वीर के साथ ख़ूबसूरत रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत बहुत बधाई सर ...देरी से दे रही हूँ पर स्वीकार कीजियेगा.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails