"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 8 दिसंबर 2009

"सभ्यता का फट गया क्यों आवरण?" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



खो गया जाने कहाँ है आचरण?
देश का दूषित हुआ वातावरण।।


लूट, दंगा, दगाबाजी की कयामत पल रही,
जमाखोरी, जालसाजी की सियासत चल रही,
जुल्म से पोषित हुआ पर्यावरण।
देश का दूषित हुआ वातावरण।।


पाठ जिसने अमन का जग को पढ़ाया,
धर्म की निरपेक्षता का पथ दिखाया,
क्यों नजर आता नही वो व्याकरण।
देश का दूषित हुआ वातावरण।।


अस्त पूरब में हुआ है क्यों उजाला सीख का,
आज क्यों भाने लगा हमको निवाला भीख का,
सभ्यता का फट गया क्यों आवरण?
देश का दूषित हुआ वातावरण।।


13 टिप्‍पणियां:

  1. सही है , गलत आचरण से वातावरण दूषित होता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. अस्त पूरब में हुआ है क्यों उजाला सीख का,

    आज क्यों भाने लगा हमको निवाला भीख का,

    सभ्यता का फट गया क्यों आवरण?

    देश का दूषित हुआ वातावरण।।

    सटीक !

    उत्तर देंहटाएं
  3. लूट, दंगा, दगाबाजी की कयामत पल रही,
    जमाखोरी, जालसाजी की सियासत चल रही,
    जुल्म से पोषित हुआ पर्यावरण।
    देश का दूषित हुआ वातावरण।।
    हर एक पंक्तियाँ सत्य बयान करती है! आपने सही कहा है कि वातावरण दूषित हो रहा है सिर्फ़ ग़लत आचरण के वजह से! बहुत अच्छी लगी ये रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  4. पाठ जिसने अमन का जग को पढ़ाया,
    धर्म की निरपेक्षता का पथ दिखाया,
    क्यों नजर आता नही वो व्याकरण।
    इस कविता में दूषित आचरण के दर्द को बड़ी कुशलता से उतारा गया है। संवेदनशील रचना। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. * अच्छी कविता !
    *मैथिलीशरण गुप्त जी की पंक्तियों को याद कर रहा हूँ-
    हम कौन थे क्या हो गए हैं और क्या होंगे अभी आओ विचारें आज मिलकर ये समस्यायें सभी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेरित करने वाली रचना । बहुत ही सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अस्त पूरब में हुआ है क्यों उजाला सीख का,
    आज क्यों भाने लगा हमको निवाला भीख का,
    shandaar rachna...
    bahut dino se aisa kuch padhne ki ummeed thi.. aaj aapne khwahish puri ki...

    उत्तर देंहटाएं
  8. mayank ji jai ho aapki !

    waah !

    waah !

    bemisal...........kamaaaaal..

    अस्त पूरब में हुआ है क्यों उजाला सीख का,
    आज क्यों भाने लगा हमको निवाला भीख का,
    सभ्यता का फट गया क्यों आवरण?
    देश का दूषित हुआ वातावरण।।

    geet me aapnhe darpan rakh diya hai...

    aap dhnya hain.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह शास्त्री जी, देश की वर्तमान परिस्थितियों पर सोच जगाती कविता...एक सार्थक चिंतन को कुरेदती पंक्तियाँ

    अस्त पूरब में हुआ है क्यों उजाला सीख का,
    आज क्यों भाने लगा हमको निवाला भीख का,

    उत्तर देंहटाएं
  10. अस्त पूरब में हुआ है क्यों उजाला सीख का,
    आज क्यों भाने लगा हमको निवाला भीख का,
    सभ्यता का फट गया क्यों आवरण?
    देश का दूषित हुआ वातावरण।।
    bilkul sahi baat kahi ...............pata nhi kab samajh aayegi?

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut bahut bahut hi sahi kaha aapne.....sandesh deti sundar sarthak rachna....waah !!!aabhar....

    उत्तर देंहटाएं
  12. मयंक जी, आपने पर्यावरण के साथ-साथ भीतर के प्रदूषण को रेखांकित किया है . साधुवाद .

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails