"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 14 दिसंबर 2009

"दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

सुमन पुलकित हो रहा अभिनव नवल शृंगार भर।
दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर।।


भ्रमर की गुञ्जार गुन-गुन गान है गाने लगी,
तितलियों की फड़फड़ाहट कान में आने लगी,
छा गया है रंग मधुवन में बसन्ती रूप धर।
दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर।।


फूलती खेतों में सरसों आम बौराने लगे,
जुगलबन्दी छेड़कर, प्रेमी युगल गाने लगे,
चहकते प्यारे परिन्दे, दुर्ग की दीवार पर।
दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर।।


दुःख की बदली छँटी,  सूरज उगा विश्वास का,
जल रहा दीपक दिलों मे स्नेह ले उल्लास का,
ज्वर चढ़ा, पारा बढ़ा है प्यार के संसार पर।
दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर।।


18 टिप्‍पणियां:

  1. फूलती खेतों में सरसों आम बौराने लगे,
    जुगलबन्दी छेड़कर, प्रेमी युगल गाने लगे,
    चहकते प्यारे परिन्दे, दुर्ग की दीवार पर।
    दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर।।

    बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. फूलती खेतों में सरसों आम बौराने लगे,

    जुगलबन्दी छेड़कर, प्रेमी युगल गाने लगे,

    चहकते प्यारे परिन्दे, दुर्ग की दीवार पर।

    दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर।।

    और यह सब हो रहा है दिसंबर माह में, यानी अभी पूस भी नहीं लगा, मार्ग्शीस चल रहा है! जो की कुल मिलकर एक शुभ सन्देश नहीं कहा जा सकता ! बहुत सुन्दर शास्त्री जी,

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाई गोदियाल जी नमस्कार!
    यह तो मुझे भी पता है कि
    दिसम्बर मास चल रहा है
    और
    अभी मार्गशीर्ष चल रहा है
    और
    पौष भी नही आया है
    परन्तु क्या कविता लिखना ही बन्द कर दें?

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह खुबसूरत प्यार भरा गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी रचना में भाषा का ऐसा रूप मिलता है कि वह हृदयगम्य हो गई है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. दुःख की बदली छँटी, सूरज उगा विश्वास का,

    जल रहा दीपक दिलों मे स्नेह ले उल्लास का,

    ज्वर चढ़ा, पारा बढ़ा है प्यार के संसार पर।

    दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर।।

    शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  7. कितना प्यारा गीत है. गेयता आपकी लेखनी की खासियत है शास्त्री जी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. शास्त्री जी, आपके मुह से यही तो उगलवाना चाह रहा था :), बहुत अच्छा लगा !

    उत्तर देंहटाएं
  9. भाव पूर्ण गीत सुन्दर रचना , दिसम्बर में बसंत बहार |
    लगता का आज का दिन बेहद खूबसूरत जायेगा
    दिन की इतनी मीठी शुरुआत जो हुई है |

    उत्तर देंहटाएं
  10. if someone has to start his/her day with a chilled breezer, this is the one to read.

    excellent shastri ji....

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर मनमोहक कविता !
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  12. भ्रमर की गुञ्जार गुन-गुन गान है गाने लगी,
    तितलियों की फड़फड़ाहट कान में आने लगी,
    छा गया है रंग मधुवन में बसन्ती रूप धर।
    दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर।।

    bahut hi sundar bhav.........jab bhi aisi dastak ho tabhi samjho basant hai...........bahut hi badhiya geet.

    उत्तर देंहटाएं
  13. दुःख की बदली छँटी, सूरज उगा विश्वास का,
    जल रहा दीपक दिलों मे स्नेह ले उल्लास का,
    ज्वर चढ़ा, पारा बढ़ा है प्यार के संसार पर।
    दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर ...

    बेहतरीन ......... लाजवाब गीत की तरह गाए जाने वाली रचना ..... हर छन्द एक से बढ़ कर एक .........

    उत्तर देंहटाएं
  14. फूलती खेतों में सरसों आम बौराने लगे,
    जुगलबन्दी छेड़कर, प्रेमी युगल गाने लगे,
    चहकते प्यारे परिन्दे, दुर्ग की दीवार पर।
    दे रहा मधुमास दस्तक है हृदय के द्वार पर ।

    बहुत ही अनुपम रचना, आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. कलिजुग है - आम जल्दी बौराने लगे!

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण कविता , बधाई !

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails