"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

सोमवार, 1 अक्तूबर 2012

"पहना दो गद्दारों को जूतों की माला" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


मक्कारों ने अपने गुलशन को वीरान बना डाला।
पहना दो अब गद्दारों को चप्पल-जूतों की माला।।

जागा सबका मन, और माटी का जागा है कण-कण,
जागी कलियाँ और चमन का जागा है हर एक सुमन,
आस्तीन में पलने नही देंगे, कोई विषधर काला।
पहना दो अब गद्दारों को चप्पल-जूतों की माला।।

धन-बल से इन्सानों के, ईमान नही बिक पायेंगे,
असली के आगे, नकली भगवान नही टिक पायेंगे,
देश-भक्त इन शैतानों को याद दिला देंगे खाला।
पहना दो अब गद्दारों को चप्पल-जूतों की माला।।

जमा विदेशों में सारा, अब काला-धन लाना होगा,
जन-गण-मन में, स्वाभिमान का अलख जगाना होगा,
उग्रवादियों की गरदन में, डालो फाँसी की माला।
पहना दो अब गद्दारों को चप्पल-जूतों की माला।।

10 टिप्‍पणियां:

  1. इस आक्रोश को भी नमन ||
    आभार गुरूजी ||

    जवाब देंहटाएं
  2. बेहतरीन सृजन ...बहुत -२ बधाईयाँ जी ...l

    जवाब देंहटाएं
  3. दिल के खुश रखने को ग़ालिब ये ख्याल अच्छा है...पर घंटी बांधेगा कौन...

    जवाब देंहटाएं
  4. उग्रवादियों की गरदन में, डालो फाँसी की माला।
    पहना दो अब गद्दारों को चप्पल-जूतों की माला।।

    बहुत अच्छी प्रस्तुति,,,,

    RECECNT POST: हम देख न सके,,,

    जवाब देंहटाएं
  5. Nice post.
    See
    http://mushayera.blogspot.in/2012/10/anjum-rahbermp4.html

    जवाब देंहटाएं
  6. "आस्तीन में पलने नही देंगे, कोई विषधर काला"
    जय हिंद

    जवाब देंहटाएं
  7. सहमत, बात तो फिर ऐसे ही होनी चाहिए


    जब भी समय मिले, मेरे नए ब्लाग पर जरूर आएं..
    http://tvstationlive.blogspot.in/2012/09/blog-post.html?spref=fb

    जवाब देंहटाएं
  8. शास्त्री सर ,
    काश आपका ये रचना, ये सपना सच हो जाए... तो इस देश में खुशहाली की हरियाली छा जाए...
    ~सादर !

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

समर्थक

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails