"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 12 अक्तूबर 2012

"याद दिला देंगे खाला" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


अभी दबी है आग राख में, बनने वाली है ज्वाला।
दीवाली की जोत बना देगी, जन-जन को मतवाला।।

निर्धन फिर धनवान बनेंगे, वापिस काला धन आयेगा,
सोनचिरैय्या को उसका, खोया आभूषण मिल जायेगा,
मक्कारी करनेवालों का, हो जायेगा मुँह काला।
दीवाली की जोत बना देगी, जन-जन को मतवाला।।

जिसने धरती के खनिजों में खायी यहाँ दलाली है,
उन सारे दुष्टों की अब तो शामत आने वाली है,
अब स्वदेश में, नहीं पनपने देंगे कोई घोटाला।
दीवाली की जोत बना देगी, जन-जन को मतवाला।।

जड़-जंगल, उर्वराधरा को, और नहीं बिकने देंगे,
किसी विदेशी साहूकार को, यहाँ नहीं टिकने देंगे,
बख़्सेंगे अब नहीं किसी को, जीजा हो या हो साला।
दीवाली की जोत बना देगी, जन-जन को मतवाला।।

कई दशक से सोया जन-गण, आज नींद से जागा है,
मुश्किल से कब्जे में आया, गीदड़ आज अभागा है,
गद्दारी करने वालों को, याद दिला देंगे खाला।
दीवाली की जोत बना देगी, जन-जन को मतवाला।।

अबला की नहीं लाज लुटेगी, पावन भू के आँगन में,
फिर से सुन्दर सुमन खिलेंगे, अपने प्यारे उपवन में,
निर्भय होकर विद्यालय में, जायेंगे बालक-बाला।
दीवाली की जोत बना देगी, जन-जन को मतवाला।।

12 टिप्‍पणियां:

  1. कई दशक से सोया जन-गण, आज नींद से जागा है,
    मुश्किल से कब्जे में आया, गीदड़ आज अभागा है,
    गद्दारी करने वालों को, याद दिला देंगे खाला।
    दीवाली की जोत बना देगी, जन-जन को मतवाला।।
    बहुत सुन्दर आह्वान …………आज ऐसी ही सोच की जरूरत है

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार्थकता लिये सशक्‍त लेखन ...आभार

    उत्तर देंहटाएं

  3. जड़-जंगल, उर्वराधरा को, और नहीं बिकने देंगे,
    किसी विदेशी साहूकार को, यहाँ नहीं टिकने देंगे,
    बख़्सेंगे अब नहीं किसी को, जीजा हो या हो साला।
    दीवाली की जोत बना देगी, जन-जन को मतवाला।।

    लालकार भरी है इन स्वरों में ,हुंकारा है आपने ,बिगुल बजाया है जन चेतना का .बधाई


    निर्धन फिर धनवान बनेंगे, वापिस काला धन आयेगा,
    सोनचिड़ैय्या को उसका, खोया आभूषण मिल जायेगा,

    (चिड़िया ,भैया /भैय्या ,भैय्या अशुद्ध रूप है ऐसे ही चिड़िया में ,चिरैय्या गलत हो जाएगा ,चिरैया काफी है .)

    बहुत ओजपूर्ण रचना आ रहीं हैं खटीमा से .


    31sVirendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ http://veerubhai1947.blogspot.com/ शुक्रवार, 12 अक्तूबर 2012 आखिर इतना मज़बूत सिलिंडर लीक हुआ कैसे ?र 2012 आखिर इतना मज़बूत सिलिंडर लीक हुआ कैसे ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुश्किल हालत के विरुद्ध इंकलाबी पोस्ट welcome on my blog |

    उत्तर देंहटाएं
  5. आशा की किरणों से आलोकित करती विचारोत्तेजक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. गद्दारी करने वालों को, याद दिला देंगे खाला।
    इनसे छुटकारा मिल जाय ते सब-कुछ बहुत आसान हो जाय !

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक सार्थक आशावादी सोच को जगाती कविता भगवान् करे वह दिन जल्दी आये सोई जनता जागे और नई राह पर कदम बढाए बहुत बहुत बधाई इस सुन्दर कविता के लिए शास्त्री जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुश्किल से कब्जे में आया, गीदड़ आज अभागा है,
    गद्दारी करने वालों को, याद दिला देंगे खाला।
    दीवाली की जोत बना देगी, जन-जन को मतवाला।। waah bahut sundar bhaw....

    उत्तर देंहटाएं
  9. अबला की नहीं लाज लुटेगी, पावन भू के आँगन में,
    फिर से सुन्दर सुमन खिलेंगे, अपने प्यारे उपवन में,
    निर्भय होकर विद्यालय में, जायेंगे बालक-बाला।
    दीवाली की जोत बना देगी, जन-जन को मतवाला।।

    बहुत सुन्दर रचना हर पंक्ति एक खूबसूरत सन्देश देती हुई |

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails