"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 14 अक्तूबर 2012

"हवस" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

आज एक पुरानी नज्म

जिन्दगी और मौत पर भी, हवस है छाने लगी।
आदमी को, आदमी की हवस ही खाने लगी।।

हवस के कारण, यहाँ गणतन्त्रता भी सो रही।
दासता सी आज, आजादी निबल को हो रही।।

पालिकाओं और सदन मेंहवस का ही शोर है।
हवस के कारण, बशर लगने लगा अब चोर है।।

उच्च-शिक्षा में अशिक्षाहवस बन कर पल रही।
न्याय में अन्याय की ही, होड़ जैसी चल रही।।

हबस के साये में ही, शासन-प्रशासन चल रहा।
हवस के साये में ही नर, नारियों को छल रहा।।

डॉक्टरों, कारीगरों कोहवस ने छोड़ा नही।
मास्टरों ने भी हवस से, अपना मुँह मोड़ा नही।।

बस हवस के जोर पर ही, चल रही है नौकरी।
कामचोरों की धरोहर, बन गयी अब चाकरी।।

हवस के बल पर हलाहल, राजनीतिक घोलते।
हवस की धुन में सुखनवर, पोल इनकी खोलते।।

चल पड़े उद्योग -धन्धे, अब हवस की दौड़ में।
पा गये अल्लाह के बन्दे, कद हवस की होड़ में।।

राजनीति अब, कलह और घात जैसी हो गयी।
अब हवस शैतानियत की, आँत जैसी हो गयी।।

14 टिप्‍पणियां:

  1. राजनीति अब, कलह और घात जैसी हो गयी।
    अब हबस शैतानियत की, आँत जैसी हो गयी।।
    पहिये वाली कुर्सी तक खाने और खाके गुर्राने की हवस से जुड़ी आज के सन्दर्भ की रचना वाड्रागेट की रचना .बधाई .कृपया हवस कर लें .

    उत्तर देंहटाएं
  2. bade pate ki bat bade saf lafjo kh aapne ne talkh sacchayee ke tane -bane ko udhed diya.bahut accha

    उत्तर देंहटाएं
  3. Nature has provided everything according to need...not according to greed...

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह!
    आपकी इस ख़ूबसूरत प्रविष्टि को कल दिनांक 15-10-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-1033 पर लिंक किया जा रहा है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपनी अपनी हड्डी लेकर कुत्ते कोना ढूंढ़ रहे हैं-
    बढ़िया है गुरु जी-

    उत्तर देंहटाएं
  6. खा चुकी 'अच्छाइयों' को,'कुम्भकर्णी,यह हविश' |
    'मानवी संस्कृति' में कितनी भर गयी है यों 'तपिश' ||

    उत्तर देंहटाएं
  7. बढ़िया प्रस्तुति शास्त्री सर !
    ~किस क़दर इंसान है भटका हुआ...
    रास्ते खोजा किया...मंज़िलों की खबर नहीं...~
    -सादर !!!:)

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही भावनामई रचना.बहुत बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails