"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 15 अक्तूबर 2010

“मात्र पुतला जल रहा!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

rama killing ravanaआओ मिल-जुलकर मनाएँ,
इस विजय त्यौहार को।
बाँट दें सारे जगत में,
सत्य के उपहार को।।
girlछा गया कुहरा घना,
अब नगर में और गाँव में,
नाचती ललनाएँ,
देखो राम की लीलाओं में,
देह के व्यापार में ,
सूली चढ़ी आचार को।
बाँट दें सारे जगत में,
सत्य के उपहार को।।
Ravana_fizzlesदेश में केवल हमारे,
मात्र पुतला जल रहा,
दुष्ट रावण तो दिलों में,
पुष्ट होकर पल रहा,
आओ सच्चा पथ दिखाएँ,
स्वयं को परिवार को।
बाँट दें सारे जगत में,
सत्य के उपहार को।।
नेक-नीयत से सदा,
बढ़ता दिलों में प्यार है,
छल, कपट और दम्भ की,
होती हमेशा हार है,
हम बुराई से बचाएँ,
इस कुटिल संसार को।
बाँट दें सारे जगत में,
सत्य के उपहार को।।
(चित्र गूगल छवि से साभार)

17 टिप्‍पणियां:

  1. देश में केवल हमारे,
    मात्र पुतला जल रहा,
    दुष्ट रावण तो दिलों में,
    पुष्ट होकर पल रहा,

    जिस दिन इस रावण का अन्त होगा तभी रामराज्य फिर से आ जायेगा………………एक सार्थक संदेश देती बेहतरीन रचना…………बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब तक दिल से रावण नहीं जायेगा, हर साल फिर बन-ठन कर आयेगा...बढ़िया पोस्ट..बधाई.


    ________________
    'शब्द-सृजन की ओर' पर आज निराला जी की पुण्यतिथि पर स्मरण.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभी तो हर साल रावण जलाना पड़ेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. sundar rachna!
    raavani pravrittiyon ka ant hi raamraajya ki neenv hogi!
    regards,

    उत्तर देंहटाएं
  5. नेक-नीयत से सदा,
    बढ़ता दिलों में प्यार है,
    छल, कपट और दम्भ की,
    होती हमेशा हार है,
    हम बुराई से बचाएँ,
    इस कुटिल संसार को।
    सुन्दर सन्देश। बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. समसामयिक, कोमल भावनाओं से सजी पोस्ट। बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    सर्वमंगलमंगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके।
    शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोsस्तु ते॥
    महाअष्टमी के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    स्वरोदय महिमा, “मनोज” पर!

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस सुन्दर रचना के साथ आपको भी विजयादशमी पर्व की शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. दुर्गाष्टमी की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुंदर सन्देश देती सार्थक रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  10. रावण एक दिन जलाना होगा...


    बेहतरीन रचना...

    दुर्गाष्टमी की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  11. सन्देश देती सार्थक रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर रचना, दुर्गा नवमी एवम दशहरा पर्व की हार्दिक बधाई एवम शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर रचना, दुर्गा नवमी एवम दशहरा पर्व की हार्दिक बधाई एवम शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  14. maatr putla jal raha.....bahut achcha.bilku sahi kaha dusht raavan
    to dilo me pusht hokar pal raha.vaah bahut khoob.

    aapko vija dashmi ki dhero shubhkamnayen.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails